15.1 C
Delhi
HomeNewsकोलकाता से गया जा रही बस से बड़ी संख्या में बम बरामद,...

कोलकाता से गया जा रही बस से बड़ी संख्या में बम बरामद, दो गिरफ्तार

- Advertisement -

स्टेट डेस्क/दिवाकर श्रीवास्तव। कोलकाता बाबू घाट से बिहार गया जा रही महारानी एक्सप्रेस यात्री बस में बम होने की सूचना मिलने पर पानागढ़ आर्मी इंटेलिजेंस ने बस का पीछा कर कुल्टी थाना की मदद से डुबूर दिघी मोड़ दो नंबर हाईवे से बस की तलाशी लेकर बस से भारी मात्रा में देशी बम बरामद किये। इसके बाद बस के चालक और कंडक्टर को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।

जानकारी के मुताबिक महारानी एक्सप्रेस नामक बस (बीआर 2एच5211) को पश्चिम बंगाल और झारखंड के सीमा क्षेत्र डिबुडीह चेकपोस्ट पर पुलिस ने पकड़ा। उक्त बस कोलकाता के बाबू घाट से बिहार के गया जाने के लिए खुली थी। बस में बमों से भरे दो काले रंग के बैग रखे हुए थे। बैग पर बैग को रिसीव करने वाले का नाम भी लिखा हुआ था। एक पर्ची में कोर्ड नंबर भी लिखा गया था। साथ ही बैग में रखे हुए बमों की कीमत व पांच हजार रुपये एडवांस का भी जिक्र था।

बमों की कीमत प्रति पीस एक हजार रुपये लिखी गयी थी। जानकारी के अनुसार दोनों बैगों में करीब 30 देशी बम थे। इन बमों को पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता से गया सप्लाई करने की योजना थी। बैग में लिखे बम को रिसीव करने वाले व्यक्ति के नाम के आधार पर पुलिस पड़ताल कर रही है।

पुलिस ने यह भी बताया के बस में कुल 18 यात्री सफर कर रहे थे। इससे यह भी पता चल रहा है कि जानबूझकर बस में ज्यादा यात्रियों को नहीं बैठाया गया। पुलिस गंभीरता से पूरे मामले की जांच कर रही है। आर्मी इंटेलिजेंस सूत्रों ने बताया कि उन्हें कोलकाता बाबुघाट से ही उनके गुप्तचर द्वारा खबर मिल गयी थी कि बिहार गया जाने वाली यात्री बस में बमों का जखीरा भेजा जा रहा है।

यह भी पढ़ें…

पानागढ़ आर्मी इंटेलिजेंस बुदबुद और कांकसा थाना क्षेत्र में बस को पुलिस की मदद से पकड़ने की कोशिश की लेकिन बस चालक बस को भगाता रहा। बस के पीछे-पीछे ही पानागढ़ आर्मी इंटेलिजेंस की टीम ने पीछा करते हुए कुल्टी थाना को सूचना दे दी। ऐसे में कुल्टी पुलिस ने डुबूर दिघी मोड़ पर नाका लगाकर बस को रोका। बस के रुकते ही पानागढ़ आर्मी इंटेलिजेंस की टीम और पुलिस की टीम ने तलाशी शुरू कर दी।

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -