29.1 C
Delhi
HomeNewsबढ़ती मंहगाई एवं कृषि कानून के विरोध को लेकर अखिल भारतीय किसान...

बढ़ती मंहगाई एवं कृषि कानून के विरोध को लेकर अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति का जूलूस-प्रदर्शन

- Advertisement -

सीतामढ़ी/रंजीत मिश्रा : बढती मंहगाई के खिलाफ एवं तीनो कृषि कानून रद्द करने को लेकर अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति तथा संयुक्त किसान मोर्चा के राष्ट्रीय कार्यक्रम के तहत किसानों ने सीतामढी़ शहर मे प्रदर्शन किया है। किसानों का ये जूलूस डूमरा रोड कारगिल चौक के समीप वीर कुंवर सिंह प्रतिमा स्थल पर एकत्रित होकर केन्द्र तथा राज्य सरकार से ये मांग की है कि आसमान छूती महंगाई को सरकारें गंभीरता से ले और तत्काल प्रभाव से राष्ट्रीय हिट में बदलाव लाए जाए साथ ही कृषि कानूनों को फ़ौरन निरस्त किया जाए ।

एआईकेएससीसी के घटक संगठन संयुक्त किसान संघर्ष मोर्चा, किसान सभा,जय किसान आन्दोलन, अभा किसान सभा ने मंहगाई ,डीजल,पेट्रोल,रसोई गैस, खाद्य तेलों के बढ़ते दामों पर , कृषि कानून रद्द करने को लेकर , एमएसपी को कानूनी दर्जा दिलवाने के लिए तथा बाढ़ से सीतामढी़ के किसानों की फसल की बर्बादी की क्षतिपूर्ति को लेकर अपना विरोध प्रदर्शन ज़ाहिर किय। इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने धान बीज की आपूर्ति करो,राशन कार्ड के सभी आवेदकों को आधार कार्ड पर राशन मुहैया हो,तथा आनलाईन शिक्षा से वंचित किसान-मजदूरों के बच्चों को ट्यूशन राशि उपलब्ध कराओ की मांग पर जमकर नारेबाजी करी ।

किसानों का जूलूस मांगों के स्टीकर के साथ प्रदर्शन स्थल पर पहुंच कर लगभग 1 घंटे तक प्रदर्शन किया। संगठन ने साथ में किसान,नवजवानों,छात्र तथा व्यवसायियों से मंहगाई तथा किसानों के समस्याओं का विरोध करने तथा सवाल उठाने की अपील भी कर डाली ।कार्यक्रम में किसान नेता डा.आनन्द किशोर, प्रो.दिगम्बर ठाकुर,वरिष्ठ नेता शफीक खां,जलंधर यदुबंशी,विश्वनाथ बुन्देला,ओमप्रकाश,चन्द्रदेव मंडल,आलोक कुमार सिंह,लालबाबू मिश्र,वरिष्ठअधिवक्ता रामपदारथ मिश्र,शशिधर शर्मा,रामबाबू सिंह,आफताब अंजुम,मो. गयासुद्दीन,संजय कुमार,भिखारी शर्मा,उमेश कुमार सिंह, शिवकुमार, डा.मंसूर आलम,मो.नुरैन,विश्वनाथ साह,नवीन कुमार,महेश कुमार,मो.मोन्तजीर,अमित कुमार झा,सुशील मिश्र सहित सैकडों किसान प्रदर्शन में शामिल थे। इससे पूर्व ओमप्रकाश की अध्यक्षता मे किसान सभा कार्यालय में एआईकेएससीसी की बैठक में प्रस्ताव पारित कर सरकार से हठधर्मिता छोड़ किसानों की मांगों पर त्वरित अमल की प्रधानमंत्री से मांग की है अन्यथा आन्दोलन तेज करने की चेतावनी दी गई है।

- Advertisement -



- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -