28.1 C
Delhi
HomePoliticsठाकुर, राणे व भूपेंद्र यादव समेत 15 कैबिनेट व 28 राज्यमंत्रियों ने...

ठाकुर, राणे व भूपेंद्र यादव समेत 15 कैबिनेट व 28 राज्यमंत्रियों ने ली शपथ

- Advertisement -

सेंट्रल डेस्क/ नई दिल्ली। मोदी मंत्रिमंडल का विस्तार शाम छह बजे शुरू हो गया। शाम साढ़े सात बजे तक सभी 43 सांसदों ने मंत्री पद शपथ ली। इनमें से 15 सांसदों को कैबिनेट मंत्री एवं 28 सांसदों को कैबिनेट मंत्री की शपथ दिलायी गई।

बताते हैं कि इतना बड़ा मंत्रिमंडल विस्तार पहले नहीं हुआ। यह फेरदबदल 2019 में सरकार बनाने के बाद यह पहला मंत्रिमंडल है। कुल 43 मंत्रियों ने शपथ ली। नियमानुसार मोदी मंत्रिमंडल 81 मंत्री रह सकते हैं। फिलहाल 53 हैं। कुल 12 वर्तमान मंत्रियों से इस्तीफे लिए जा चुके हैं। यूपी से सात मंत्रियों ने शपथ ली। पांच बिहार व पांच मंत्री गुजरात से बने।

ज्योतिरादित्य सिंधिया
सर्बानंद सोनोवाल

जातीय संतुलन, टैलेंट सोशल इंजीनियरिंग साधने की कोशिश की गयी। राष्ट्रपति भवन में आयोजित शपथ ग्रहण समारोह ठीक 6 बजे शुरू हआ। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समय पर पहुंच गए। सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ख्याल रखा गया।

नारायण राणे
आरसीपी सिंह
पशुपति नाथ पारस
अश्विनी वैष्णव
भूपेंद्र यादव
कपिल मोरेश्वर पाटिल
अनुप्रिया पटेल
मीनाक्षी लेखी

कैबिनेट मंत्री पद की शपथ लेने वालों में नारायण राणे, सर्वानंद सोनोवाल, डा.वीरेंद्र कुमार, ज्योतिरादित्य माधवराव सिंधिया, आरसीपी सिंह, अश्वनी वैष्णव, पशुपति कुमार पारस, किरण रिजिजू, राजकुमार सिंह, हरदीप पुरी, मनसुख मांडिविया, भूपेंद्र यादव, पुरुषोत्तम रुपाला, जी.किशन रेड्डी, अनुराग सिंह ठाकुर हैं। राज्यमंत्री की शपथ लेने वालों में पंकज चौधरी, अनुप्रिया पटेल, एसपी सिंह बघेल, राजीव चंद्रशेखर, शोभा करंदजे, भानुप्रताप सिंह वर्मा, दर्शना विक्रम, अन्नपूर्णा देवी, ए.नारायण स्वामी, कौशल किशोर, अजय भट्ट, बीएल वर्मा, अजयकुमार मिश्रा, देव सिह चौहान, भगवंत खूबा, कपिल पांडेय, प्रतिमा भौमिक, डा.सुभाष सरकार, डा.भागवत किशन राव करात, डा.राजकुमार रंजन सिंह, डा.भारती प्रवीण पवार, विश्वेश्वर टुरू, शांतनु ठाकुर, मुंजपारा महेंद्र भाई, जॉन बार्ला, डा.एल.मोर्गन, नीतीश प्रमाणिक हैं।

शांतनु ठाकुर
पंकजपंकज चौधरी
आरसीपी सिंह
अजय भट्ट
किरण रिजिजू

इस्तीफा देने वाले मंत्री : रविशंकर प्रसाद, प्रकाश जावडेकर, थावरचंद गहलोत (सामाजिक न्याय मंत्री), डॉ. हर्षवर्धन (स्वास्थ्य मंत्री), रमेश पोखरियाल निशंक (शिक्षा मंत्री), अश्विनी चौबे (स्वास्थ्य राज्य मंत्री), देबोश्री चौधरी (महिला बाल विकास मंत्री), सदानंद गौड़ा (उर्वरक और रसायन मंत्री), संतोष गंगवार (श्रम राज्य मंत्री), संजय धोत्रे (शिक्षा राज्य मंत्री), बाबुल सुप्रियो, प्रताप सारंगी, रतन लाल कटारिया।

आपको बताते चलें कि महामारी, गिरती अर्थव्यवस्था, बढ़ती महंगाई जैसी चुनौतियों और 2021-22 में 6 राज्यों में चुनाव दौर में मंत्रिमंडल विस्तार लाजिमी हो गया था। यही नहीं 19 जुलाई से शुरू हो रहे मॉनसून सत्र में सदन को बतौर मंत्री फेस करने का अवसर इन मंत्रियों को मिल जाएगा। बताते हैं कि मत्रिमंडल विस्तार के पीछे ये वजहें प्रमुख हैं। गुड गवर्नेंस, गुणवत्ता सुधार, जनता की निराशा दूर करना, जातीय व क्षेत्रीय प्रतिनिधित्व का संतुलन, पार्टी के लोगों का मनोबल ऊंचा करना, मोदी व भाजपा की ताकत बढ़ाना है।

यह भी पढ़ें…

- Advertisement -



- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -