पटना में 743 केस मिलने से टूटा रिकॉर्ड, माइक्रो कंटेनमेंट जोन बढ़कर 207 हुए

स्टेट डेस्क : राजधानी पटना में लगातार कोरोना का मामले बढ़ रहे हैं। गुरुवार को पटना में कोरोना के कुल 743 नए केस आये। इसके साथ ही पटना जिले में अब माइक्रो कंटेनमेंट जोन बढ़कर 207 हो गये हैं। जिले के 6 अनुमंडलों की बात करें तो सबसे ज्यादा माइक्रो कंटेनमेंट जोन पटना सदर में 118 हैं, जबकि दूसरे स्थान पर बाढ़ में 43 और मसौढ़ी में 18, पटना सिटी में 8 है। इसके अलावा दानापुर में 11 और पालीगंज में 9 माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाये गये हैं।


पटना हाईकोर्ट में पिछले सोमवार से गुरुवार के बीच करीब 35 की कोरोना रैपिड जांच रिपोर्ट पॉजिटव आने के बाद कर्मियों में दहशत फैल गई है। जानकारी के अनुसार क्रिमिनल सेक्शन सहित अन्य सेक्शनों में कई कर्मी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। पटना के चीफ पोस्टमास्टर जनरल भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। डाक विभाग के चीफ पोस्ट मास्टर जनरल अनिल कुमार भी कोरोना पॉजिटिव हो गये हैं। चीफ पोस्ट मास्टर जनरल के कोरोना पॉजिटिव होने के बाद मेघदूत भवन को सैनेटाइज किया गया है।

पटना में इस बार कोरोना का घातक रूप से शहर के नए इलाके में ज्यादा दिख रहा है। पिछले साल के हॉट स्पॉट बने इलाके में इस बार कोरोना का प्रसार कम है लेकिन नए मोहल्ले में यह तेजी से फैला है। पिछले बार के हॉट स्पॉट बने इलाके राजा बाजार, पटना सिटी, फुलवारीशरीफ, दीघा, बीएमपी, पाली आदि में इस बार कोरोना का संक्रमण अपेक्षाकृत कम है।

नए मोहल्ले और नए वर्गों के बीच इस बार समूह में संक्रमण मिल रहा है। एक-एक अपार्टमेंट में एक ही परिवार के सभी सदस्य अथवा पड़ोसी आदि बड़ी संख्या में संक्रमित मिल रहे हैं । पिछले साल मार्च से नवंबर तक के आठ महीने में मुश्किल से 25 से 30 बच्चे संक्रमित मिले थे लेकिन इस बार पिछले 15 दिनों में 100 से ज्यादा बच्चे संक्रमित मिले हैं। पहले जहां बुजुर्ग और कैंसर, किडनी, हृदय रोगी जैसे कोमोरविडिटीज वर्ग की संख्या मृतकों में ज्यादा रहती थी तो इस बार युवा और कम आयु के लोग भी बड़ी संख्या में मर रहे हैं।

शहर में बने कंटेनमेंट जोन पर नजर डालें तो पिछले वर्ष सबसे ज्यादा संक्रमित पटना सिटी इलाके में इस बार सबसे कम कंटेनमेंट जोन बने हैं। बुधवार तक पटना सिटी में कुल 122 माइक्रो कंटनेमेंट जोन बने हैं। इसमें पटना सिटी में मात्र चार कंटेनमेंट जोन हैं। सरकारी आंकड़े के अनुसार यहां एक्टिव संक्रमितों की संख्या 10 है। इनमें से भी पांच लोग बहादुरपुर हाउसिंग कॉलोनी के हैं।