AAP ने भोजपुरी को आठवीं अनुसूची में शामिल कराने के मांग उठायी

0
652

सेंट्रल डेस्क/उदीप्त : भाजपा के लिय नयी मुश्किल आम आदमी पार्टी, दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिलाने के लिए एक नये आंदोलन की तैयारी में जुट गयी है। दिनांक 24-25 फरवरी को दिल्ली में शिवजी सिंह की अध्यक्षता में हुई भोजपुरी विश्व सम्मेलन में आम आदमी पार्टी के भी नेताओं ने हिस्सा लिया । आयोजन में दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिलाने के लिए आंदोलन की मांग भी उठी। इसी आयोजन में आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता राघव चड्ढा ने कहा कि ‘संविधान के आठवीं अनुसूची में भोजपुरी को जोड़ने की पूर्वांचल समुदाय की मांग को मैं और आप दोनों समर्थन करते हैं ‘।

भोजपुरी को लेकर समय समय पर पूर्वांचल के लोगो ने आंदोलन किया है और सरकार को घेरा है। बता दे कि 2013 में उस प्रस्ताव का समर्थन भाजपा के रवि शंकर प्रसाद, राजीव प्रताप रूडी और मनोज तिवारी जैसे नेता कर रहे थे। मनोज तिवारी ने तो यहा तक घोषणा की थी अगर दिल्ली में मोदी की सरकार बनती है तो यह भोजपुरी को आठवीं अनुसूची में शामिल होने से कोई नहीं रोक सकता। अब चुकी सरकार का कार्यकाल लगभग समाप्त होने को है और इस दिशा में प्रस्ताव तो दूर, संसद में कभी चर्चा तक नहीं की गयी।

इस मुद्दे को लेकर भाजपा पर पूर्वांचल के लोग नाराज़ चल रहे है। इस मौके पर आम आदमी पार्टी का यह दाव भाजपा को भारी पड़ सकता है। राघव चड्ढा ने यहां तक कह दिया कि ‘ मैं पूर्वांचल के लोगों को विश्वास दिलाता हू की अगर दक्षिण दिल्ली से मैं सांसद चुना गया तो यह मुद्दा संसद में पूरी जोड़ से उठाऊंगा।’ बता दे कि दक्षिण दिल्ली में पूर्वांचल वासियों की जनसंखया कि बहुलता है।

भोजपुरी भाषा, पूर्वांचल के लोगो के लिए भावना और अस्मिता से जुड़ा मुद्दा है। अगर राघव चड्डा का यह दाव काम कर गया तो दक्षिण दिल्ली में वोट बहुत मात्रा में उलटफेर हो सकता है। विश्व भोजपुरी सम्मेलन हर साल आयोजित किया जाता है जिसमे भोजपुरी से जुड़े सभी बड़े नाम जैसे भरत शर्मा व्यास, अजीत दुबे, गोपाल राय, मनोज तिवारी आदि हिस्सा लेते हैं।