Big news: चिकित्सक व प्रधान सहायक रिश्वत लेते निगरानी के हत्थे चढ़े

खगड़िया/ bpn: पटना निगरानी टीम ने बुधवार को खगड़िया में अलग-अलग जगहों पर बड़ी कार्रवाई करते हुए स्वास्थ्य विभाग से जुड़े एक डॉक्टर और एक प्रधान सहायक (बड़ाबाबू) को गिरफ्तार किया है। निगरानी की टीम ने गोगरी से रेफरल अस्पताल गोगरी के प्रभारी डॉ. एससी सुमन को डेढ़ लाख रुपये रिश्वत लेते हुए दबोचा।


निगरानी टीम की गिरफ्त में रेफरल अस्पताल गोगरी के प्रभारी डॉक्टर एससी सुमन

जबकि खगड़िया राजेंद्र चौक के पास से सिविल सर्जन कार्यालय खगड़िया के प्रधान सहायक राजेंद्र प्रसाद को 30 हजार रुपये घूस लेते हुए पकड़ा। घटना बाद से स्वास्थ्य महकमा में हड़कंप है। भाजपा ओबीसी मोर्चा के प्रदेश प्रवक्ता संजय खंडेलिया ने स्वास्थ्य मंत्री को पत्र लिखकर खगड़िया सिविल सर्जन पर निशाना साधते हुए उन्हें यहां से कार्यमुक्त करने की मांग की है।

जानकारी अनुसार गोगरी रेफरल अस्पताल में कार्यरत परिचारिका रूबी कुमारी का अगस्त 20 से फरवरी 21 तक का वेतनादि आदि बकाया है। जिसमें रेफरल अस्पताल के प्रभारी डॉ. एससी सुमन और सिविल सर्जन कार्यालय के बड़ाबाबू राजेंद्र प्रसाद रिश्वत मांग रहे थे।

निगरानी की गिरफ्त में खगड़िया सिविल सर्जन कार्यालय के बड़ा बाबू

निगरानी डीएसपी ने बताया कि परिचारिका रूबी कुमारी का अगस्त 20 से फरवरी 21 तक वेतनादि बकाया था। जिसे भुगतान करने को लेकर रेफरल अस्पताल गोगरी के प्रभारी द्वारा डेढ़ लाख व सिविल सर्जन कार्यालय के प्रधान सहायक द्वारा 50 हजार की मांग की गई। प्रधान सहायक से 30 हजार पर बात हुई थी।

डीएसपी ने बताया कि रूबी के पति संजीत कुमार ने इसकी शिकायत निगरानी कार्यालय से की। इसका सत्यापन किया गया और टीम द्वारा कार्रवाई करते हुए खगड़िया में परिचारिका के पति संजीत कुमार से 30 हजार रुपये लेते प्रधान सहायक व रूबी कुमारी से गोगरी में डेढ़ लाख रुपये लेते रेफरल अस्पताल के प्रभारी को पकड़ा गया।