35.1 C
Delhi
Homeट्रेंडिंगबिहार के स्टूडेंट्स और यूथ से डीजीपी जानेंगे क्राइम का हाल, होंगे...

बिहार के स्टूडेंट्स और यूथ से डीजीपी जानेंगे क्राइम का हाल, होंगे सीधे मुखातिब

- Advertisement -spot_img

पटना/अमित जायसवाल : क्राइम को लेकर बिहार के यूथ क्या सोचते हैं? कॉलेज में पढ़ने वाले स्टूडेंट्स बिहार के अंदर किस तरह का बदलाव चाहते हैं? क्राइम को लेकर इनका नजरिया क्या हैं? क्राइम कंट्रोल करने को लेकर बिहार के यूथ्स और कॉलेज में पढ़ने वाले स्टूडेंट्स किस तरीके का सुझाव अपनी पुलिस को देना चाहते हैं? इस तरह के सवालों पर अपनी बातों को रखने का यूथ और स्टूडेंट्स को एक बड़ा मौका मिलने जा रहा है.

इन्हें ये अवसर कोई और नहीं, बल्कि बिहार पुलिस के मुखिया गुप्तेश्वर पांडेय खुद से देने जा रहे हैं. जल्द ही डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय यूथ और स्टूडेंट्स से सीधे मुखातिब होंगे, उनसे सीधा संवाद करेंगे. सीधा संवाद का ये कार्यक्रम होगा बिहार पुलिस के नए हेडक्वार्टर सरदार पटेल भवन के आॅडिटोरियम में. डीजीपी के अनुसार 22 से 26 फरवरी के बीच में इस संवाद कार्यक्रम का आयोजन होगा.

— फोन कर करवाना होगा अपना रजिस्ट्रेशन
डीजीपी के साथ होने वाले संवाद कार्यक्रम में भाग लेने के लिए यूथ्स और स्टूडेंट्स को अपना रजिस्ट्रेशन करवाना होगा. रजिस्ट्रेशन के लिए पुलिस हेडक्वार्टर के लैंड लाइन नंबर 0612/2217877 पर कॉल करना होगा. रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया 16 फरवरी से 22 फरवरी तक चलेगी. भाग लेने वाले यूथ्स और स्टूडेंट्स को अपना नाम, पिता का नाम, घर का पता और अपना मोबाइल नंबर कॉल कर लिखवाना होगा. कॉल करने के लिए सुबह 10 बजे से रात के 8 बजे तक का समय निर्धारित किया गया है.

— 23 फरवरी को मिलेगा स्पेशल पास
संवाद कार्यक्रम में भाग लेने के लिए यूथ्स और स्टूडेंट्स को एक स्पेशल पास मिलेगा. बगैर पास के किसी को भी इंट्री नहीं दी जाएगी. पास उन्हीं लोगों को मिलेगा, जो कॉल कर अपना रजिस्ट्रेशन करवाएंगे. रजिस्ट्रेशन के बाद पास लेते वक्त यूथ्स और स्टूडेंट्स को पहचान पत्र या आधार कार्ड दिखाना होगा. कार्यक्रम में शामिल होने वाले यूथ क्राइम कंट्रोल के लिए अपने सुझाव लिख कर भी ला सकते हैं और सीधे DGP के हाथ में सौंप सकते हैं.

एक तरह से कहें तो सीधा संवाद का ये कार्यक्रम छात्र संसद का ही दूसरा रूप होगा. इस कार्यक्रम को लेकर खुद डीजीपी काफी उत्साहित हैं. पुलिस को पब्लिक फ्रेंडली बनाने की दिशा में डीजीपी का ये एक कारगर कदम साबित हो सकता है.

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -