39.1 C
Delhi
Homeट्रेंडिंगबिहार: गणतंत्र दिवस को लेकर रेलवे में हाई अलर्ट, ड्रोन कैमरे से...

बिहार: गणतंत्र दिवस को लेकर रेलवे में हाई अलर्ट, ड्रोन कैमरे से होगी ट्रेनों व पटरियों की निगरानी

- Advertisement -spot_img

स्टेट डेस्क: गणतंत्र दिवस समारोह और माकपा माओवादी संगठन के प्रतिरोध दिवस को लेकर रेलवे स्टेशनों व जिलों में हाई अलर्ट जारी किया गया है। सुरक्षा एजेंसियों की सूचना पर रेल व जिला पुलिस ने चौकसी बढ़ा दी है। खुफिया रिपोर्ट की सूचना मिलते ही ईस्ट सेंट्रल रेलवे (ईसीआर), ईस्टर्न रेलवे (ईआर) और नार्थ फ्रंटियर रेलवे (एनएफ) की सुरक्षा टीम अपने-अपने क्षेत्रों की सुरक्षात्मक किलाबंदी करने में जुट गयी है।

स्टेशनों, ट्रेनों, ट्रैकों तथा विभिन्न रेलखंडों पर चल रही रेलवे परियोजनाओं की निगरानी ड्रोन से करने का निर्णय लिया गया है। ताकि किसी भी अप्रयि घटना होने के पहले समय रहते कार्रवाई की जा सके। पूर्व मध्य रेल के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी राजेश कुमार ने कहा कि गणतंत्र दिवस को लेकर जोन के सभी स्टेशनों की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। आरपीएफ और जीआरपी द्वारा विशेष निगरानी बरती जा रही है।

27 जनवरी को बिहार-झारखंड में नक्सली बंदी
माओवादी संगठन ने आगामी 27 जनवरी को बिहार-झारखंड में नक्सली बंदी की घोषणा की है। 21 से 26 जनवरी तक प्रतिरोध दिवस मनाया जा रहा है। पटना के पुलिस उप-महानिरीक्षक, रेलवे ने सूबे के पटना, मुजफ्फरपुर, कटिहार और जमालपुर के पुलिस प्रशासन को सतर्कता बरतने और पुलिस गश्त तेज करने का आदेश दिया है।

रेल जिला जमालपुर के एसआरपी आमिर जावेद ने संदिग्ध व्यक्तियों की पूछताछ करने, स्टेशनों, पटरियों व ट्रेनों में सर्च अभियान चलाकर सुरक्षा बढ़ाने का आदेश जारी कर दिया है। एसआरपी ने जीआरपी और आरपीएफ को भी हाई अलर्ट किया है। आरपीएफ ने खोजी कुत्ता लेकर रात्रि में गश्त शुरू कर दिया है। दिन में जीआरपी पुलिस ने मेटल डिटेक्टर लेकर जमालपुर, भागलपुर, किऊल, झाझा सहित अन्य बड़े छोटे स्टेशनों पर सर्च अभियान तेज कर दिया है।

नक्सली और आतंकी हमले को लेकर ईसीआर और ईआर का रेल पुलिस प्रशासन हाई अलर्ट है। रेल प्रशासन ने गणतंत्र दिवस पर स्टेशनों, ट्रेनों व ट्रेकों की निगरानी ड्रोन कैमरे से कराने का निणर्य लिया है। खासकर रेलवे परियोजनाओं में चल रहे निर्माण व मरम्मत कार्यों की सुरक्षात्मक किलाबंदी के लिए ड्रोन कैमरे का उपयोग किया जाएगा। भारी भरकम सामान की जांच स्टेशनों, ट्रेनों व रेलवे क्षेत्रों में की जा रही है।

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -