चंपारण: सुगौली में अवध एक्सप्रेस से दो बच्चों के साथ दलाल गिरफ्तार

मोतिहारी/प्रतिनिधि: इस कोरोना काल में भी बाल तस्करी का धंधा थमने का नाम नहीं ले रहा है। इसी क्रम में आज गुप्त सूचना के आधार पर बांद्रा जाने वाली अवध स्पेशल एक्सप्रेस ट्रेन से सूरत ले जा रहे दो बच्चों को मुक्त कराते हुए दलाल को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। बताया जाता है कि बचपन बचाओ संगठन को सूचना मिली थी कि सुगौली रेलवे स्टेशन से सूरत जाने वाली बांद्रा अवध एक्सप्रेस में कुछ नाबालिग बच्चों को बाल मज़दूरी के लिए ले जाया जा रहा है।

सूचना पर उक्त संगठन की असिस्टेंट प्रोग्राम अधिकारी आरती कुमारी ने एक संयुक्त टीम का गठन किया। जिसमें सशस्त्र सीमा बल 47 वीं बटालियन पंटोका, प्रयास संस्था, आरपीएफ सुगौली, चाइल्ड लाइन सब सेंटर रक्सौल व राजकीय रेल पुलिस के सहयोग से अभियान चलाकर दो नाबालिग बच्चों के साथ एक दलाल को पकड़ा गया। बच्चे की काउंसलिंग में पता चला कि दोनों बच्चा धागा फैक्ट्री सुरत में काम सीखने जा रहे थे।

जिसकी जानकारी देते हुए बचपन बचाव आंदोलन की असिस्टेंट प्रोग्राम ऑफिसर आरती ने बताया कि बरामद बच्चों की पहचान बैरिया, थाना रामगढ़वा निवासी पन्नालाल साह व ललिता देवी के 17 वर्षीय पुत्र बृजेश कुमार व दीपक यादव एवं कांति देवी के 16 वर्षीय पुत्र रंजीत यादव के रूप में हुई है। जबकि दलाल की पहचान उक्त गाँव के ही हरेंद्र मुखिया के 26 वर्षीय पुत्र धर्मेन्द्र कुमार के रूप में हुई है।


दलाल ने बताया कि मेरा भी ठेकेदार है। जो सुगौली थान क्षेत्र के छपवा वाले पांडेय जी है। इस व्यक्ति के कहने पर सभी बच्चो को सूरत ले जा रहे थे। वहां पर बच्चो को प्रत्येक माह में 13,000/ हजार रुपए मिलने की बात बताई गई। जिसके एवज में नाबालिगों से सुबह 7 बजे से रात्रि 8:00 बजे तक काम लेने की बात बताई गई। बताया उसमें से एक बच्चा बिना टिकट के जा रहा था।

इस बावत आरती ने बताया कि दलाल पर एफआईआर दर्ज कर जेल भेजा जा रहा है। मुक्त कराए गए बच्चों की अगली प्रक्रिया के लिए जीआरपी सुगौली ने चाइल्ड लाइन सब सेंटर रक्सौल के अजय कुमार को सुपुर्द किया है। मौके पर बचपन बचाव आंदोलन के अमीत कुमार, राज गुप्ता, एसएसबी के सब इंस्पेक्टर बंदना देवी, दिलेराम, नाजरीन बनो, मनोज कुमार, राजबन प्रसाद, कुलदीप कुमार, आरपीएफ से सब इंस्पेक्टर शशि भूषण सिंह, प्रयास से अभिषेक कुमार, जीआरपी थानाध्यक्ष विवेकानंद प्रसाद शामिल रहे।