चंपारण: कोरोना के नाम पर छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ बर्दास्त नहीं- अनिकेत रंजन

मोतिहारी/राजन दत्त द्विवेदी: कोरोना वायरस को लेकर स्कूल और कोचिंग संस्थानों को 11 अप्रैल तक बंद रखने के सरकार के आदेश का जहां पूरे बिहार में विरोध हो रहा है। वहीं आज मोतिहारी जिले के सभी कोचिंग संस्थान एवं स्कूलों को पुनः चालू कराने की मांग को लेकर पूर्व लोकसभा प्रत्याशी अनिकेत रंजन के नेतृत्व में कोचिंग संस्थानों के छात्र, शिक्षकों के साथ विभिन्न संगठन के छात्र नेताओं ने संयुक्त रूप से शहर में रैली निकाल कर विरोध प्रदर्शन किया। प्रदर्शन बाद प्रदर्शनकारियों का एक शिष्टमंडल जिलाधिकारी को अपनी मांगों से संबंधित एक ज्ञापन सौंपा।


जिसमें जिला प्रशासन से मांग किया है कि आगामी 12 अप्रैल से सभी कोचिंग संस्थानों एवं स्कूलों को चालू करने की अनुमति दी जाय। वही प्रदर्शन का नेतृत्व करते हुए अनिकेत रंजन ने कहा कि बड़े-बड़े राजनीतिक पार्टियों की रैलियों के लिए कोरोना वायरस खतरनाक नहीं है। मॉल में भीड़, बैंक में भीड़ एवं सिनेमा हॉल में भीड़ लग रही है पर उसके लिए कोरोना वायरस खतरनाक नहीं है।

बस स्कूली बच्चे एवं कोचिंग संस्थानों के बच्चे अगर पढ़ाई करना चाहते हैं तो सिर्फ उनके लिए कोरोनावायरस खतरनाक है। सरकार की इस तरीके की व्यवस्था का हम सभी मिलकर विरोध करते हैं। सरकार एवं सभी पदाधिकारियों से आग्रह है कि 12 अप्रैल से पुनः निश्चित रूप से सभी कोचिंग संस्थानों को चालू करने का निर्देश दिया जाए। मौके पर एआईएसएफ से विकास कुमार सिंह, नितिन पांडेय, विनय कुमार, सुरेश कुमार, राहुल सिंह, सूरज बैठा, पवन कुमार, मनीष सिंह विवेक कुमार, जुबेर अंसारी, अवतार सर, आरके सिंह के साथ हजारों की संख्या में छात्र नौजवान उपस्थित थे।