चंपारण: कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए स्थान, निकटता और समय पर रखें पूरी सावधानी- सीएस

मोतिहारी/राजन दत्त द्विवेदी: कोविड 19 का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। कहीं न कहीं इसका कारण आप और हम ही हैं। हमारी ओर से लगातार बरती जाने वाली असावधानियां हमें तेजी से संक्रमित कर रही हैं। तेजी से बढ़ते माइक्रो कंटेन्मेंट जोन इसके उदाहरण हैं। हम बेवजह ही अभी भी घरों से बाहर भीड़ का हिस्सा बन रहे हैं। लोगों से शारीरिक दूरी का पालन नहीं कर रहे हैं।


यहां तक कि हम कोविड के अतिसंवेदनशील इलाकों में भी बेहिचक कोरोना के नियमों का पालन किए बिना जा रहे हैं। ऐसे में अतिसंवेदनशील इलाकों के लिए डब्ल्यूएचओ ने पोस्टर के माध्यम से तीन कारक बताए हैं। जिनका इस्तेमाल कर हम कोविड से सुरक्षित रह सकते हैं। उक्त जानकारी सिविल सर्जन डॉ अखिलेश सिंह ने बताया कि डब्ल्यूएचओ कहता है कि कोरोना को लेकर जो भी क्षेत्र अतिसंवेदनशील हैं, वहां संक्रमण को रोकने के लिए स्थान, निकटता और समय बहुत मायने रखता है।

पोस्टर कहता है कि बंद जगहों की अपेक्षा खुली जगह, भीड -भाड़ की अपेक्षा आपस में दूरी और कम समय तक सम्पर्क आपको संक्रमण से दूर रख सकता है। वहीं डब्ल्यूएचओ ने टीका के विकास और वितरण के बारे में कहा है कि दिन प्रतिदिन कमजोर होती इम्युनिटी को वैक्सीन की मदद से मजबूती मिल सकती है। यहां तक कि अगर कोई भी व्यक्ति कोविड के संपर्क में आया है या इससे संक्रमित हो चुका है।

उसके लिए कोविड की वैक्सीन इम्युनिटी बूस्टर का काम करती है। वहीं वैक्सीन के बाद मास्क की अनिवार्यता के बारे में डब्ल्यूएचओ ने बताता है कि वैक्सीन केवल इम्युनिटी को बढ़ाता है। अगर किसी ने वैक्सीन ली भी है फिर भी उसे मास्क का प्रयोग, भीड़भाड़ वाली जगहों पर शारीरिक दूरी का पालन करना जरूरी होगा।