चंपारण: कंटेनमेंट जोन, अस्पताल में चिकित्सा और टीकाकरण कार्य का दें रिपोर्ट- डीएम

मोतिहारी / राजन दत्त द्विवेदी: डीएम शीर्षत कपिल अशोक की अध्यक्षता में कोविड-19 को लेकर जिला प्रशासन के द्वारा किए जा रहे कार्यों की अधिकारियों संग समीक्षात्मक बैठक हुई। जिसमें विभिन्न कोषांग के पदाधिकारियों के साथ उनके कोषांग द्वारा किए जा रहे कार्यों के परिणाम और उसमें सुधार से संबंधित चर्चाएं हुई। डीएम ने नियमित सभी नोडल अधिकारियों को टीकाकरण, ऑक्सीजन सप्लाई, कंटेनमेंट जोन और अस्पतालों में चिकित्सा कार्य का गहन निरीक्षण कर रिपोर्ट वरीय अधिकारी को सौंपने का आदेश दिया।


कहा कि जिन स्थानों पर कोविड जांच हो रहे हैैं, वहां जांच में पॉजिटिव पाए जाने के बाद तुरंत कोविड कीट उपलब्ध कराया जाय। उन्होंने आक्सीजन को लेकर जिला वासियों से अपील किया कि, किसी भी प्रकार के भ्रामक सूचना पर विश्वास न करें। जिले में ऑक्सीजन की पर्याप्त उपलब्धता है। जिला प्रशासन निजी अस्पतालों को भी ऑक्सीजन उपलब्ध करवाएगी। उन्होंने अधिकारियों को नए सिलेंडर खरीद कर पर्याप्त मात्रा में सिलेंडर उपलब्ध कराने का निर्देश दिया।

ऑक्सीजन की सप्लाई पर जोर देते हुए सभी अस्पतालों को ऑक्सीजन की उपलब्धता और मांग की सूचना 24 घंटा पहले देने का आदेश दिया। साथ ही किस अस्पताल को किस कारण से कितने सिलेंडर गए, इसका निरीक्षण कर आंकड़ा तैयार कर लें। ताकि सिलेंडर की जमाखोरी को रोका जा सके। जिलाधिकारी ने बताया कि रेमडेसिवीर के लिए राज्य सरकार को प्रस्ताव भेजा गया है। डीडीसी एवं सिविल सर्जन की अगुवाई में निरीक्षण कर यह चिन्हित किया जाए कि किन्हें रेमडेसिविर की सख्त जरूरत है, ताकि उसकी बर्बादी ना हो।

वहीं निजी अस्पतालों में वहां आने वाले रोगियों के निरीक्षण के लिए एक सरकारी कर्मचारी तैनात किए जाएंगे। जो रोगी में कोरोना का लक्षण दिखने पर तुरंत जिला स्वास्थ्य विभाग को सूचित करेगा। जिससे संक्रमितों का सही आंकड़ा पता लगेगा।डंकन और सदर अस्पताल में गंभीर मरीजों के लिए अलग से डीसीएचसी तैयार किए जायेंगे।


अनुमंडल पदाधिकारीयाें को अपने क्षेत्र में कोविड केयर सेंटर तैयार करने के लिए जल्द से जल्द स्थान चिन्हित कर उसपर आगे कार्यवाही करने का निर्देश दिया गया। जिला स्वास्थ्य विभाग को 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को टीकाकरण के लिए 28 अप्रैल से शुरू हो रहे पंजीकरण सबंधित जागरूकता फैलाने का आदेश दिया। साथ ही स्वास्थ्य विभाग को अपने जिम्मेवारियों के प्रति सजग रहने और किसी भी प्रकार की लापरवाही की स्थिति में सख्त कार्यवाई के लिए तैयार रहने की हिदायत दी। डीएम ने बताया कि जिला प्रशासन सभी पंचायतों में प्रत्येक परिवार को 6 मास्क वितरित कर रहा है। जिस पर निगरानी रखी जाय।
जिला स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के मुताबिक जिले में अभी तक कुल 1738 लोग कोरोना संक्रमित है और 211 कंटेनमेट जोन बनाए गए है। जिला प्रशासन द्वारा अर्थव्यवस्था, प्रशासकीय व्यवस्था, स्वास्थ्य सुविधाओं को ध्यान में रख कर कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए आवश्यक कदम उठाने पर विचार किया जा रहा है। मौके पर डीडीसी कमलेश कुमार सिंह, अपर समाहर्ता, अपर समाहर्ता आपदा प्रबंधन अनिल कुमार, सिविल सर्जन अखिलेश सिंह एवं सभी कोषांग के नोडल पदाधिकारी, स्वास्थ्य विभाग के पदाधिकारी उपस्थित थे।