31.1 C
Delhi
Homeट्रेंडिंगचिराग को दिल्ली हाई कोर्ट से झटका, चाचा पशुपति पारस को संसदीय...

चिराग को दिल्ली हाई कोर्ट से झटका, चाचा पशुपति पारस को संसदीय दल का नेता चुने जाने के खिलाफ याचिका खारिज

- Advertisement -

पटना: लोक जनशक्ति पार्टी में बने दो धड़ों का मामला दिल्ली हाई कोर्ट पहुंचा. लेकिन दिल्ली हाई कोर्ट से चिराग पासवान को बड़ा झटका लगा है. दिल्ली हाईकोर्ट ने चिराग पासवान की तरफ से दायर उस याचिका को खारिज कर दिया, जिसमें चिराग पासवान ने लोकसभा स्पीकर द्वारा पशुपति पारस को संसदीय दल के नेता के तौर पर मान्यता दी थी.

याचिका खारिज करते हुए कोर्ट ने कहा कि लोकसभा स्पीकर को सदन की कार्रवाई से जुड़े हुए फैसले लेने का पूरा अधिकार. सुनवाई के दौरान दिल्ली हाई कोर्ट ने चिराग पासवान के वकील से पूछा कि आपकी पार्टी के कितने सांसद हैं.

चिराग पासवान के वकील ने कहा कि मुझे मिलाकर कुल 6, जिस पर कोर्ट ने टिप्पणी करते हुए कहा कि यह आपकी पार्टी का अंदरूनी मसला है इसको पार्टी के भीतर ही सुलझाना चाहिए. 

चिराग पासवान के वकील ने कहा कि हम यहां पर लोकसभा स्पीकर के आदेश को चुनौती देने के लिए आए हैं. चिराग पासवान के वकील ने कहा कि पार्टी की तरफ से 2019 में केंद्र चुनाव आयोग को भी बताया गया था कि चिराग पासवान ही पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं.

इसके साथ ही चिराग पासवान लोकसभा में पार्टी के नेता थे. पहले चिराग को गैर कानूनी तरीके से पार्टी के अध्यक्ष पद से हटा दिया गया और बाद में जिन्होंने ऐसा किया वह खुद केंद्र सरकार में मंत्री बन गए.

- Advertisement -



- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -