29.1 C
Delhi
Homeट्रेंडिंगराफेल सौदे में कैग, सुप्रीम कोर्ट और जनता की अदालत से मिली...

राफेल सौदे में कैग, सुप्रीम कोर्ट और जनता की अदालत से मिली मोदी सरकार को क्लीन चिट- सुशील मोदी

- Advertisement -

पटना: सुशील मोदी ने कहा कि भारतीय वायुसेना को चीन-पाकिस्तान की चुनौतियों का एक साथ सामना करने की अदम्य शक्ति प्रदान करने वाले 36 राफेल विमानों की खरीद का सौदा इतना पारदर्शी था कि इसमें भ्रष्टाचार के सारे आरोप निराधार और राजनीति से प्रेरित साबित हुए।

2019 में इस मुद्दे पर चुनाव लड़ने के कारण कांग्रेस को करारी हार मिली। राफेल मुद्दे पर कैग, सुप्रीम कोर्ट और जनता की अदालत से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार को क्लीन चिट मिली। बार-बार झूठे साबित होने पर राहुल गांधी को जनता से माफी मांगनी चाहिए।

सुप्रीम कोर्ट ने न केवल राफेल सौदे के विरुद्ध सारी याचिकाएँ खारिज कीं, बल्कि उसके फैसले का गलत ढंग से हवाला देकर प्रधानमंत्री मोदी को चोर बताने पर राहुल गांधी को माफी मांगने पर भी मजबूर किया था। राहुल गांधी को अपने देश की लोकप्रिय सरकार और सुप्रीम कोर्ट पर भरोसा नहीं है, इसलिए अब वे फ्रांस में राफेल सौदे की एक जांच शुरू होने भर से खुश हो रहे हैं। फ्रांस की अदालत ने अभी कोई फैसला नहीं सुनाया है।

राफेल विमान खरीद की प्रक्रिया 2007 में कांग्रेस नेतृत्व वाली सरकार ने शुरू की थी, लेकिन वायुसेना की जरूरतों से ज्यादा केवल रक्षा सौदे से मोटी दलाली पाने में दिलचस्पी रखने वाले लोग सौदा नहीं कर पाये। नौ साल बाद जब भ्रष्टाचार मुक्त एनडीए सरकार ने फ्रांस की सरकार के साथ 59000 करोड़ रुपये का विमान सौदा बेहतर शर्तों पर कर लिया, तब राहुल गांधी की छाती फटने लगी। वे कथित भ्रष्टाचार के अलग-अलग आंकड़े देकर खुद अपनी खिल्ली उड़वाते रहे।

- Advertisement -



- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -