कोरोना ने प्राइवेट अस्पतालों में ला दी आक्सीजन गैस की संकट, अन्य गंभीर रोग के मरीजों की जान ख़तरे में

मोतिहारी / राजन दत्त द्विवेदी: कोरोना के दूसरे दौर ने जिले के प्राइवेट अस्पतालों में आक्सीजन गैस सिलेंडरों की कमी ला दी है। जिसके कारण अन्य रोगों से पीड़ित मरीजों को भी आक्सीजन की कमी का हवाला देते हुए डाक्टर गंभीर रूप से बीमार मरीजों को अपने निजी अस्पतालों में भर्ती मना करते जा रहे हैं। जिसके कारण अब अन्य बीमार लोगों के साथ उनके परिवार के लोग कोरोना के बदले अब आए आक्सीजन संकट से त्राहीमाम कर रहे हैं। वहीं दूसरी ओर सिलेंडर के जमाखोरों ने अधिक आमदनी का इसे जरिया बना लिया है।


लेकिन, प्रशासन की सख्त और कड़ी नजर रखने के कारण वैसे मामले का पटाक्षेप भी हो रहा है। वहीं आक्सीजन गैस की हुई किल्लत के संबंध में शहर के प्रमुख पाम होस्पिटल के संचालक डॉ पुष्कर कुमार सिंह ने बताया कि अभी वे एक सप्ताह से उनके अस्पताल में आक्सीजन गैस की आपूर्ति नहीं होने के कारण बीमार मरीज जिन्हें गैस की जरूरत है उन्हें चाह कर भी भी भर्ती नहीं ले पा रहे हैं। अक्सर कई अन्य गंभीर बीमारी से पीड़ित रोगी आ रहे हैं, लेकिन आक्सीजन गैस के अभाव में भर्ती कर इलाज करने में असमर्थता जतानी पड़ रही है।

जिला प्रशासन अन्य गंभीर बीमारी से पीड़ित रोगी के बचाव के लिए भी आक्सीजन गैस सिलेंडर की आपूर्ति कराना आवश्यक है। डाक्टर टी अजीज, डाक्टर विश्वनाथ तिवारी एवं डॉ मनोज कुमार सिंह ने भी निजी चिकित्सालय में गंभीर रोग के भर्ती मरीजों की जिंदगी बचाने में आक्सीजन गैस सिलेंडर आपूर्ति की बात को आवश्यक बताया है।