जिला में कोरोना का वैक्सीन नहीं, अस्पताल अधीक्षक के पास जाने को पत्रकारों पर रोक

बेतिया/अवधेश कुमार शर्मा: माकपा के पश्चिम चम्पारण जिला मंत्री प्रभुराज नारायण राव ने कहा कि जिले के किसी भी स्वास्थ्य केंद्रों पर कोविड 19 के टीका के लिए वैक्सीन उपलब्ध नहीं है। लोग अपना काम छोड़कर स्वास्थ्य केंद्र पर जा रहे हैं, लेकिन टीका के लिए वैक्सीन नहीं, अब तो स्थिति यहां पहुंच गई कि जानकारी प्राप्त करने वाले पत्रकारों को अस्पताल के सी-ब्लॉक में जाने पर रोक लगा दी गई है। यह आदेश राजकीय चिकित्सा महाविद्यालय अस्पताल बेतिया के अधीक्षक ने. गोस्वामी सिक्युरिटी सर्विसेज, मुजफ्फरपुर जैसे निजी सुरक्षा गार्ड को दिया गया है।


उल्लेखनीय है कि कोविड 19 का भारतीय (टीका) वैक्सीन कोविशिल्ड की आपूर्ति जिला में पर्याप्त है कि नहीं, कोई नही बता रहा। अलबत्ता इस बावत सिविल सर्जन डॉ अरुण कुमार सिन्हा ने इतना कहा कि शनिवार से वैक्सीन की उपलब्धता सभी जगह पर्याप्त होगी। श्री राव ने कहा कि यह कार्रवाई 1974 के छात्र आंदोलन की उपज, उस समय के सौम्य छात्र नेता और वर्तमान बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की देख रेख में हो रहा है।

उन्होंने कहा कि बिहार को वैक्सीन का कोटा केंद्र सरकार को नहीं देकर विदेशों में वैक्सीन भेज रही है और प्रधानमंत्री वाह-वाही लूटनें में लगे हैं। कोरोना का रफ्तार बड़ी तेजी से बढ़ रहा है । जिससे जनजीवन को बचाना हमारी पहली प्राथमिकता है। प्रधानमंत्री मुख्यमंत्रियों की बैठक में भी कोई ठोस निर्णय नहीं हुआ। बल्कि तीन दिनों का टीका का सघन अभियान चलाने की बात हुई।

जब वैक्सीन की ही कमी हो रही है, तो इस सघन अभियान का क्या मतलब, जबकि देखा जा रहा है कि प्रधानमंत्री सहित उनका पूरा कुनबा चुनाव में मशगूल है। ऐसी परिस्थिति में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से स्पष्ट कहना चाहते हैं कि जनतंत्र के चौथे स्तम्भ पर रोक लगाकर अधिनायकवाद का हिस्सा बनने से बाज आए ।