RSS का होने के बावजूद अटल जी देवता थे : फारूक अब्दुल्ला

नई दिल्ली : नेशनल कांफ्रेंस नेता व पूर्व सीएम फारूक अब्दुल्ला से जब पूछा गया कि आप अटल बिहारी वाजपेयी और नरेंद्र मोदी में क्या फर्क देखते हैं? इसके जवाब में फारूक ने कहा कि मैं बस इतना ही कहना चाहता हूं कि अटल बिहारी वाजपेयी देवता आदमी थे। अटलजी आरएसएस से थे लेकिन वे मानते थे कि भारत सबका देश है। फारूक ने कहा कि वाजपेयी किसी तरह का भेदभाव नहीं करते थे, देश को मजबूत करने का काम करते थे।


आज तक पर ‘सीधी बात’ कार्यक्रम के दौरान प्रभु चावला फारूक अब्दुल्ला बात कर रहे थे। उन्होंने फारूक अब्दुल्ला से पूछा कि मोदी सरकार के कार्यकाल की आप तारीफ तो करेंगे कि नहीं? इस पर फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि इनका 5 साल का रिकॉर्ड देख कर ही बात करेंगे। इस पर प्रभु चावला ने पूछा कि 6 साल के रिकॉर्ड पर बोल दीजिए।

जवाब में फारूक ने कहा कि 6 साल के रिकॉर्ड पर बाद में बोलूंगा लेकिन यह कहना कि जो हुआ है मेरे समय में हुआ है, ऐसा कहना गलत है। शो में जब प्रभु चावला ने सवाल किया कि क्या 2024 में भी नरेंद्र मोदी दोबारा प्रधानमंत्री बनेंगे? इस पर फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि मेरे पास अगर तिलिस्मी चिराग होता तो मैं जरूर उससे पूछ लेता कि 2024 में क्या होगा?

फारूक ने कहा कि पीएम मोदी भी गए थे शिकागो बोलने के लिए कि अबकी बार ट्रंप सरकार लेकिन आज ट्रंप फ्लोरिडा में अपने घर पर बैठे हुए गोल्फ खेल रहे हैं। इस कार्यक्रम में फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि देश किस तरफ जा रहा हमें समझ नहीं आ रहा है। आपको चुनाव लड़ना है तो मुद्दे पर लड़िए। मैं कान पकड़ता हूं। अगर किसी को चुनाव जीतना है तो अपने काम पर जीतिए। अल्लाह या भगवान के नाम पर मत जीतो। झूठ आसमान से उतर रहा है। जितना बदनाम करने की कोशिश की जा रही बदनाम करो। विरोधी को देशद्रोही, पाकिस्तानी कहा जाता है।

शो में जब प्रभु चावला ने पूछा कि पाक अधिकृत कश्मीर को छीना जाएगा तो फारूक ने कहा कि मैं इससे अलग राय रखता हूं। कश्मीर जो हमारे पास है, उसको नहीं संभाल पा रहे हैं तो हम पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर को कैसे संभाल लेंगे? मैंने वाजपेयी जी से कहा था कि कि एलओसी पर आवाजाही शुरू करनी चाहिए। दिलों से नफरत को भुलाना चाहिए। नवाज शरीफ भी इस पर राजी थे।

प्रभु चावला ने जब पूछा कि क्या एलओसी को इंटरनेशनल बॉर्डर मानना चाहते हैं? इस पर अबदुल्ला ने कहा कि मैं मानने वाला कौन होता हूं ये तो भारत पाकिस्तान तय करेंगे। फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि आप मुझसे कश्मीर की हालत के बारे में मत पूछिए खुद जाकर देखिए।