30.1 C
Delhi
Homeउत्तर प्रदेशघरेलू हिंसा पर देश भर के डॉक्टर करेंगे मंथन, महिलाओं को करेंगे...

घरेलू हिंसा पर देश भर के डॉक्टर करेंगे मंथन, महिलाओं को करेंगे जागरूक

- Advertisement -

कानपुर/ अंजनी निगम: कानपुर मेनोपॉज सोसायटी, इंडियन मेनोपॉज सोसायटी के साथ मिलकर घरेलू हिंसा और नारी के अधिकार विषय पर राष्ट्रीय स्तर पर एक गोष्ठी करेंगे जिसमें देश भर के करीब तीन हजार चिकित्सकों और समाज के अन्य जागरूक लोगों के शामिल होने की संभावना है।

यह जानकारी इंडियन मेनोपॉज सोसायटी की संस्थापक अध्यक्ष एवं जीएसवीएम मेडिकल कालेज में स्त्री एवं प्रसूति रोग विभाग की अध्यक्ष डॉ किरन पांडेय ने देते हुए बताया कि पब्लिक प्लेटफॉर्म पर होने वाली यह गोष्ठी 10 जुलाई को शाम 5:30 बजे से रात्रि 8:00 बजे तक आयोजित होगी। गोष्ठी का मुख्य उद्देश्य घरेलू हिंसा और नारी के अधिकारों से सामान्य जनता को अवगत कराना है। इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि प्रदेश की उच्च शिक्षा, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री नीलिमा कटियार रहेंगी।

गोष्ठी को जीएसवीएम मेडिकल कालेज की पूर्व विभागाध्यक्ष एवं ट्रिपल डब्ल्यू फाउंडेशन की अध्यक्ष डॉ मीरा अग्निहोत्री, नेशनल मेनोपॉज सोसायटी की अध्यक्ष डॉ सी अंबुजा, इंडियन कालेज आफ गायनेकोलॉजिस्ट की चेयरपर्सन डॉ मंदाकिनी मेघ विशेष तौर पर उपस्थित रहेंगी। कार्यक्रम की मुख्य आयोजक सोसायटी की संस्थापक अध्यक्ष डॉ किरण पांडे, पब्लिक अवेयरनेस कमेटी की अध्यक्ष डॉ आरती सिंह एवं संस्थापक सचिव डॉ गरिमा गुप्ता हैं।

कार्यक्रम के प्रथम चरणों में दो व्याख्यानों का आयोजन किया गया है जो सर्वोच्च न्यायालय के वकील अमित पाठक एवं नम्रता मिश्रा द्वारा होगा। कार्यक्रम के दूसरे भाग में होने वाली महत्वपूर्ण चर्चा में देश के प्रमुख बुद्धिजीवी घरेलू हिंसा और महिलाओं के अधिकार की वर्तमान स्थिति पर मंथन करेंगे जिसका शीर्षक अबला से सबला सफर अस्तित्व का है। इसमें मिसेज विनी सिंह, डॉक्टर जगदीश, डॉक्टर जमुना देवी, वैभव साझीदारी करेंगे। इस भाग का संचालन डॉक्टर किरण पांडे करेंगी।

कार्यक्रम के आखिरी पड़ाव में प्रतियोगिताएं भी आयोजित की गई हैं जिसमें स्लोगन, डॉक्यूमेंट्री और निबंध रखा गया है और विजेताओं को सर्टिफिकेट भी प्रदान किया जाएगा । देश के विभिन्न राज्यों से वरिष्ठ एवं नामचीन स्त्री रोग विशेषज्ञ इन प्रतिभाओं का मूल्यांकन करेंगे एवं पुरस्कार प्रदान करेंगे। इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य महिलाओं एवं आम जनता को घरेलू हिंसा के खिलाफ आवाज उठाना एवं उसका हल निकालने के लिए रास्ता दिखाना है।

- Advertisement -



- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -