तेज़ी से अपनी धुरी पर घूम रही धरती, हैरत में है साइंटिस्ट

सेंट्रल डेस्क: हम सब यह पढ़ते आ रहे है कि धरती अपनी धुरी पर एक चक्कर लगाने में 24 घंटे का समय लेती है। लेकिन हाल ही में हुई घटना ने साइंटिस्टों की बेचैनी बढ़ा दी है।

वैज्ञानिकों के अनुसार, इन दिनों पृथ्वी अपनी धुरी पर काफ़ी तेज़ी से घूम रही है। पृथ्वी अपना एक चक्कर पूरा करने में 24 घंटे से कम समय ले रही है।

धरती के तेज़ी से चक्कर लगाने वाली इस घटना ने साइंटिस्टों को हैरानी में डाल दिया है। एक रिपोर्ट के अनुसार यह पूरा मामला साल 2020 के मध्य से प्रारंभ हुआ है। डाटाकलेक्शन के हिसाब से19 जुलाई 2000 बीच अब तक का सबसे छोटा दिन था। इस दिन पृथ्वी अपनी धुरी पर चक्कर पूरा करके 1. 4602 मिली सेकंड पहले ही आ गयी थी।

पृथ्वी 2020 के मध्य से अपना एक चक्कर पूरा करने में 24 घंटे में 0.5 मिली सेकंड कम समय ले रही है। यानि 24 घंटे में पॉइंट 0.5 मिली सेकेंड कम हो रहे हैं। इससे पहले साल का सबसे छोटा दिन 2005 में नापा गया था। लेकिन आपको याद जान कर हैरानी होगी कि अब यह रिकॉर्ड पिछले एक साल में 28 बार टूट चुका है।

आम जीवन में इंसान को ये बदलाव नहीं पता चल सकता है। यह बदलाव एटॉमिक क्लॉक से ही पता लगाया जा सकता है। वैज्ञानिकों का मानना है कि 0.5 मिली सेकंड के बदलाव से बहुत सी समस्याएं खड़ी हो सकती है, जैसे कम्युनिकेशन सिस्टम में समस्या क्योंकि हमारी सैटलाइट और दूसरे संचार यात्रा सूरज के हिसाब से यानी सोलर टाइम के हिसाब से सेट होकर कार्य करते हैं।