BIG NEWS : सरकारी और निजी क्षेत्र के कार्यालयों में भी 11 अप्रैल से लगेगा कोरोना का टीका

सेंट्रल डेस्क/नई दिल्ली : केंद्र सरकार ने कोरोना संक्रमण के खिलाफ जंग में तेजी लाने के लिए एक बड़ा फैसला किया है जिसके तहत सरकारी और निजी कार्यस्थलों में टीका लगाने की अनुमति दी गयी है। राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में ऐसे सरकारी या निजी कार्यस्थलों में 11 अप्रैल से विशेष कैंप लगाकर वैक्सीन लगाई जा सकेगी जहां 100 पात्र कर्मचारी हों।


केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने इस संबंध में सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्य सचिवों को पत्र लिखा है। उन्होंने कहा है कि संगठित क्षेत्र में सरकारी और निजी दफ्तरों, उत्पादन इकाइयों या सेवा क्षेत्रों में काम करने वालों में 45 साल या उससे अधिक उम्र के कर्मचारियों की संख्या अच्छी खासी है। इन लोगों तक टीके की पहुंच सुलभ बनाने के लिए 100 पात्र और इच्छुक लाभार्थियों वाले सरकारी और निजी कार्यस्थलों में कोरोना टीका सत्रों का आयोजन किया जा सकता है।

उन्होंने कहा कि राज्य और केंद्र शासित प्रदेश ऐसे सरकारी और निजी कार्यस्थलों के नियोक्ताओं और प्रबंधन के साथ बातचीत कर 11 अप्रैल से वहां टीकाकरण केंद्र शुरू कर सकते हैैं। केंद्र ने इस संबंध में दिशानिर्देश जारी करते हुए राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से इसके लिए पर्याप्त तैयारी करने को कहा है।

केंद्र ने यह स्पष्ट कर दिया है कि सिर्फ 45 साल या उससे अधिक उम्र के कर्मचारी ही टीका लगाने के पात्र होंगे। कार्यस्थल में पात्र कर्मचारियों के अलावा उनके परिवार के पात्र सदस्यों या किसी भी बाहरी व्यक्ति को टीका लगाने की अनुमति नहीं होगी।

संसाधनों के अधिकतम उपयोग के लिए कम से कम 50 कर्मचारियों के पंजीकरण के बाद कार्यस्थल पर टीकाकरण सत्र का आयोजन करने को कहा गया है। ऐसे संस्थान को कम से कम 15 दिन पहले टीकाकरण सत्र के आयोजन की जानकारी देगी होगी, ताकि उस दिन अधिकतम कर्मचारी की उपस्थिति सुनिश्चित हो। सरकारी और निजी कार्यस्थलों में टीका लगाने के लिए आवश्यक कर्मचारियों को तैनात करने की जिम्मेदारी उस इलाके के नजदीकी सरकारी और निजी कोरोना टीकाकरण केंद्रों की होगी।