HC IN ACTION: आक्सीजन की किल्लत पर दिल्ली हाई कोर्ट की बेहद तल्ख टिप्पणी – केंद्र सरकार आंख पर पट्टी बांध सकती है, हम नहीं

-अस्पतालों को ऑक्सीजन टैंकर वितरण का जिम्मा IIT और IIM को सौंपना चाहिए


सेंट्रलडेस्क/ नयी दिल्ली: देश मे विकराल रूप धारण कर चुकी कोरोना महामारी और उससे निपटने में केंद्र सरकार की सुस्ती पर मंगलवार को दिल्ली हाई कोर्ट ने बेहद तल्ख टिप्पणी की है। आक्सीजन की किल्लत पर हाई कोर्ट ने केंद्र को फटकार लगाते हुए कहा कि सरकार आंख पर पट्टी बांध सकती है लेकिन हम ऐसा नहीं कर सकते। आप इतने असंवेदनशील कैसे हो सकते हैं, ये भावनात्मक मसला है, लोगों की जान जा रही है।

दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा कि देश में जैसी स्थिति हैं, उसे देखकर आप अंधे बन सकते लेकिन हम नहीं क्योंकि हम लोगों को मरता हुआ नहीं देख सकते हैं।हाईकोर्ट ने कहा कि केंद्र ने तो आंखों पर पट्टी बांध ली है पर हम ऐसा नहीं कर सकते।

हाईकोर्ट ने कहा कि अस्पतालों को ऑक्सीजन टैंकर वितरण का जिम्मा IIT और IIM को सौंपना चाहिए। हाईकोर्ट ने कहा कि दिल्ली में ऑक्सीजन की कमी से हो रही मौतों पर केंद्र असंवेदनशील बनी हुई है। हाईकोर्ट ने कहा कि जहां जरूरी नहीं वहां से ऑक्सीजन लेकर दिल्ली को दें6 क्योंकि यहां के अस्पतालों में मरीज तड़प रहे हैं। दिल्ली हाईकोर्ट ने केंद्र को कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने भी दिल्ली को 700MT ऑक्सीजन देने को कहा है, ऐसे में उसे इतना मिलना ही चाहिए।

दिल्ली सरकार ने कोर्ट में आरोप लगाया है कि ऑक्सीजन की सप्लाई, टैंकर्स का सही इस्तेमाल नहीं हो रहा है, जबकि केंद्र कहा कि बीते दिन ही दिल्ली को 12 अतिरिक्त ऑक्सीजन टैंकर्स अलॉट किए गए हैं।