हैदराबाद एयरपोर्ट ने शुरू की दुनिया भर में कोविड-19 वैक्सीन भेजने की तैयारी, दुबई से हुआ करार

हैदराबाद/ तेलंगाना /अंकिता राय: बायोटेक लैब की covaxin के आपात प्रयोग के अप्रूवल के बाद बड़े पैमाने पर इसके उत्पादन की तैयारी की जा रही है। इस वैक्सीन का ज्यादातर प्रोडक्शन हैदराबाद में ही किया जाएगा। इसके बाद देश विदेश में भी निर्यात करने की तैयारी की जा रही है।



इसको लेकर जीएमआर हैदराबाद इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड और जीएमआर हैदराबाद एयर कार्गो ने दुबई एयरपोर्ट फॉर बिल्डिंग के साथ समझौता किया है ताकि वैक्सीन के परिवहन में कोई परेशानी ना हो। इसके लिए खास एयर फ्रण्ट कॉरिडोर बनाया गया है जिसे एच वाई डीएक्सबी – वी एक्स सी ओ आर (HYDXB-VAXCOR) नाम दिया गया है। जीएमआर की तरफ से इस बारे में आधिकारिक जानकारी दी गई है।

माना जा रहा है कि आने वाले समय में हैदराबाद कोविड-19 वैक्सीन उत्पादन का हब बनेगा। हैदराबाद को वैक्सिंग कैपिटल ऑफ द वर्ल्ड के नाम से भी जाना जाता है। कई वैक्सीन कंपनियां अपना उत्पादन हैदराबाद में कराने की योजना बना रही है। इन वैक्सीन का बड़े पैमाने पर निर्यात एक चुनौती पूर्ण होगी। ऐसे में शमशाबाद स्थित राजीव गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा पर गहमागहमी तेज हो गई है। वैक्सीन के परिवहन में कोई परेशानी ना हो इसके लिए जीएमआर और विदेशों की हवाई परिवहन कंपनियां समझौता कर रही है। इसी के तहत तैयारी शुरू हो चुकी है।

हैदराबाद के रास्ते भारत से दुबई पहुंचने के बाद वैक्सीन को अन्य देशों में भेजा जाएगा। हैदराबाद GMRHIA के सीईओ सौरभ कुमार ने समझौते पर हस्ताक्षर किया। कोविड-19 वैक्सीन टेम्परेचर से प्रभावित होता है। इसके सुरक्षित इस्तेमाल के लिए करीब 2 डिग्री टेम्परेचर की जरूरत है। समझौते के बाद हैदराबाद एयरपोर्ट और दुबई एयरपोर्ट पर तमाम संसाधन जुटाए जाएंगे जिसकी मदद से वैक्सीन के उचित टेम्परेचर के परिवहन में कोई परेशानी ना आए।

वैक्सीन के परिवहन के लिए उच्च गुणवत्तापूर्ण संसाधनों के इस्तेमाल के साथ ही पूरी प्रक्रिया बेहद सरल की जाएगी ताकि वैक्सीन को दूसरे देशों में भेजने में बहुत अधिक वक्त नहीं लगे। दुनियाभर को वैक्सीन को पहुंचाने की दिशा में भारत के साथ सहयोग की दुबई एयरपोर्ट प्रमुख ने सराहना की।