बिहार को IMA का रेड अलर्ट, कहा- 15% हेल्थ वर्कर कोरोना संक्रमित

पटना: बिहार में कोरोना के इलाज में बड़ी रुकावट आ सकती है। क्योंकि प्रदेश के 15% हेल्थ वर्कर संक्रमित हैं और जो काम कर रहे हैं वे दिन-रात जाग रहे हैं। ऐसे में संक्रमण की रफ्तार बढ़ी तो आने वाले दिनों में बड़ा संकट खड़ा हो सकता है। इन हालातों में आकस्मिक बहाली से ही महामारी से निपटा जा सकता है, नहीं तो आम लोगों की जान पर खतरा होगा।


इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) ने मुख्यमंत्री और स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव को भेजे गए पत्र में कहा है कि हमारे डॉक्टर्स और हेल्थ वर्कर पिछले 14 महीने से बिना छुट्‌टी के लगातार काम कर रहे हैं। काम करते-करते डॉक्टर और हेल्थ वर्कर थक गए हैं। इसमें 15% तो कोरोना से संक्रमित होकर टूट गए हैं। कई डॉक्टर और अन्य हेल्थ वर्कर तो अपनी जान भी गंवा चुके हैं।

महामारी तो छोड़िए, सामान्य स्थिति में भी कम पड़ेगा स्टाफ
IMA ने कहा है कि महामारी तो छोड़ दीजिए, अब तो सामान्य हालात को देखते हुए भी डॉक्टर्स और हेल्थ वर्करों की भारी कमी है। कोविड के खिलाफ इस लड़ाई में डॉक्टर्स, पैरा मेडिकल्स, नर्सेज और दूसरे स्टाफ की बड़ी संख्या में जरूरत है। क्योंकि आने वाला हर दिन चुनौतियों से भरा है। अगर भर्ती नहीं की गईं तो आने वाले समय में काफी नुकसान हो सकता है।