सोशल : ‘कश्मीर हमारा है तो कश्मीरी पराये कैसे हो सकते हैं?’

0
705

सेंट्रल डेस्क : कश्मीर के पुलवामा ज़िले में सीआरपीएफ़ के काफ़िले पर हमले में कम से कम 40 जवानों की मौत के बाद से देश के कई इलाक़ों में कश्मीरियों पर हमले की ख़बर सामने आई है. टाइम्स ऑफ इंडिया की एक ख़बर के अनुसार उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में बजरंग दल और विश्व हिन्दू परिषद के सदस्यों ने पुलवामा हमले का हवाला देकर 12 कश्मीर छात्रों को पीटा है. वहीं पटना के बुद्ध मार्ग में भी कश्मीरी बाज़ार पर हमला हुआ और दुकानें बंद करवा दी गईं. इन्हें भी हमलावरों ने वापस जाने की धमकी दी.

कश्मीरियों पर हमले के बीच सोशल मीडिया पर कई लोग खुलकर सामने आए और उन्होंने कहा कि जो भी कश्मीरी डरे हुए हैं वो उनके घर पर आकर रहें. ट्विटर पर देखते ही देखते #SOSKashmir ट्रेंड करने लगा था और हज़ारों लोगों ने इसी हैशटैग से ट्वीट किए हैं.

जेएनयू के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने टवीट करते हुए लिखा कि कश्मीर हमारा है तो कश्मीरी पराये कैसे हो सकते हैं? देश के कई हिस्सों में कश्मीरियों को असुरक्षित करने वाले लोग जवानों की शहादत का अपमान कर रहे हैं. भारतीयता की हर वह परिभाषा अधूरी है जिसमें देश के किसी भी नागरिक को चोट पहुँचाने को देशभक्ति से जोड़ा जाए.

वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने ट्वीट कर कहा, ”यह दुखद है कि सोशल मीडिया और न्यूज़ चैनलों पर पुलवामा हमले के लिए सभी कश्मीरियों को निशाने पर लिया जा रहा है. हम आतंकवादियों को अलग-थलग करने के बजाय कुछ लोगों के पागलपन भरे और अक्षम्य गुनाहों के लिए सभी कश्मीरियों पर उंगली उठा रहे हैं. क्या इससे हमें समाधान मिलेगा? ज़्यादा होश और सही जोश की ज़रूरत है.”

वरिष्ठ पत्रकार निधि राजदान ने भी ट्वीट कर कश्मीरी छात्रों पर हो रहे हमले की कड़ी भर्त्सना की है. निधि ने ट्वीट में लिखा है, ”जो कश्मीरी छात्रों पर हमला कर रहे हैं वो आज की तारीख़ में सब बड़े देशद्रोही हैं. ये ठीक उसी लाइन पर काम कर रहे हैं जो आईएसआई चाहती है.”

वरिष्ठ पत्रकार राहुल देव ने भी कश्मीरियों पर हमले को धिक्कारा है. उन्होंने ट्वीट कर लिखा है, ”अगर कश्मीर हमारा है तो कश्मीरी भी हमारे हैं. अगर आप इसे महसूस नहीं कर सकते और उनसे अपनों की तरह बर्ताव नहीं कर सकते तो आपकी भारतीयता खोटी, सतही और ओछी है. भारत में रहने वाले कश्मीरियों पर हर हमला भारतीय होने के अर्थ और भारत की आत्मा पर हमला है.”