विधानसभा के बाहर सीमांचल की समस्याओं को लेकर माले का प्रदर्शन

स्टेट डेस्क/पटना : आज बिहार विधानसभा बजट सत्र के 17 में दिन राजद और वामदलों के तमाम विधायकों ने अपराधिक वारदात, लूटता, हत्या, फिरौती, जालसाजी जैसी घटनाओं को लेकर विरोध प्रदर्शन किया। भाकपा माले के विधायकों ने आशा कर्मियों के मानदेय भुगतान में बढ़ोतरी के साथ साथ सरकारी नौकरी का दर्जा देने की मांग सरकार से मांग की है। तो वहीं राजद के विधायकों ने कहा है कि, जिस तरह से बिहार में शराब माफियाओं का तांडव दिन पर दिन बढ़ता जा रहा है। सरकार इस पर लगाम लगाने में असमर्थ साबित हो रही है यह बिहार के लोगों के लिए सबसे ज्यादा संकट का समय है।


भाकपा माले के विधायकों ने आज सीमांचल की समस्याओं पर सरकार को घेरा है. सीमांचल की अलग-अलग समस्याओं को लेकर माले विधायकों ने विधानमंडल परिसर में प्रदर्शन किया है. सीमांचल को गरीबी और पलायन मुक्त करने के साथ-साथ जलजमाव की समस्या से निजात दिलाने के लिए विधायक नारेबाजी करते नजर आए हैं.

पटना में धरना प्रदर्शन पर अघोषित प्रतिबंध के सवाल पर भी माले ने नीतीश सरकार को घेरा है. कटिहार में जूट उद्योग को चालू करने की मांग. अल्पसंख्यक, दलित और आदिवासी बहुल सीमांचल को भेदभाव मुक्त करने, धारा 371 के तहत विशेष सहूलियत देने की मांग भी रखी है.