नालंदा: बक्से में बंद लाश की कहानी से पुलिस ने हटाया पर्दा, तीस हजार रुपये को लेकर की गई थी हत्या

बिहारशरीफ/ अविनाश पांडेय: अपराध पर अंकुश लगाने की हर एक कोशिश जारी है। कई बङी सफलताएं इसके उदाहरण हैं। इसी कङी मे शुक्रवार को भी पुलिस ने एक बङी सफलता अर्जित की। पुलिस ने बक्से में बंद लाश की कहानी से पर्दा हटा दिया है। हत्या के आरोप में एक की गिरफ्तारी कर ली गयी है। 6 जनवरी को दीपनगर थाना क्षेत्र के डुमरामा जाने वाली सड़क के किनारे पुलिस को एक बक्से में बंद एक व्यक्ति का शव बरामद किया था।



मृतक की पहचान सोहसराय थाना क्षेत्र के सोहोखर गांव निवासी अर्जुन प्रसाद उर्फ अर्जुन साव के पुत्र दीपक कुमार उर्फ पिंटू के रूप में की गई थी। इस मामले में मृतक के पुत्र सुजल कुमार द्वारा हत्या का मामला थाने में दर्ज कराया गया था। जिसमें मृतक के पुत्र ने लहेरी थाना क्षेत्र के मथुरिया मोहल्ला निवासी अरुण कुमार के पुत्र सागर कुमार एवं नीतीश कुमार सहित अन्य अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज कराया गया।

कांड दर्ज होने के बाद नालंदा के पुलिस अधीक्षक श्री हरि प्रसाथ एस के निर्देशन में सदर एसडीपीओ डॉ शिब्ली नोमानी के नेतृत्व में पुलिस निरीक्षक सह दीपनगर थानाध्यक्ष मोहम्मद मुस्ताक के द्वारा वैज्ञानिक अनुसंधान के तहत नामजद अभियुक्त नीतीश कुमार को एक किराए के मकान से हत्या में इस्तेमाल हथियार के साथ गिरफ्तार कर लिया गया। जबकि इस मामले में सागर कुमार की गिरफ्तारी की जानी है। दीपनगर थाना अध्यक्ष मुस्ताक अहमद ने बताया कि ₹30000 की खातिर उक्त घटना को अंजाम दिया गया है। गिरफ्तार अभियुक्त से पूछताछ में पुलिस को यह जानकारी मिली । पुलिस ने हत्या में इस्तेमाल लोहे की खूंती,कमरे की दीवार से खून का नमूना अभियुक्त द्वारा घटना में इस्तेमाल खून लगा कपड़ा एवं एक मोबाइल फोन बरामद कर लिया है।