पीएम मोदी पर विजय माल्या का ट्विटर अटैक, कहा- मैं पैसे देता हूं तो लेते क्यों नहीं

0
97

सेंट्रल डेस्क : पीएम मोदी ने बुधवार को 16वीं लोकसभा के अपने अंतिम भाषण में बिना माल्या का नाम लिए बैंकों का 9000 करोड़ रुपये लेकर ‘भाग जाने वाले’ एक शख्स की चर्चा की थी. इसके जवाब में शराब कारोबारी विजय माल्या ने गुरुवार को लगातार कई ट्वीट कर पीएम मोदी को ही घेरने की कोशिश की. माल्या ने कहा कि वह तो पैसा लौटाने को तैयार हैं, लेकिन पीएम मोदी आखिर बैंकों से इसे लेने को कहते क्यों नहीं.

विजय माल्या ने एक ट्वीट में कहा कि पीएम मोदी अच्छे वक्ता हैं और मीडिया ने जिस तरह की कहानियां गढ़ी हैं, उससे मैं यह मान लेता हूं कि वह मेरे बारे में ही बात कर रहे थे. माल्या ने कहा, ‘संसद में प्रधानमंत्री का अंतिम भाषण पर मेरा ध्यान गया है. वह निश्चित रूप से अच्छे वक्ता हैं. मैंने यह गौर किया कि वह बिना नाम लिए एक व्यक्ति की बात कर रहे थे जो 9000 करोड़ रुपये लेकर ‘फरार’ हो गया है. मीडिया की कहानियों को देखते हुए मैं यह मान सकता हूं कि वह मेरे बारे में ही बात कर रहे थे.’

अपने एक ट्वीट में भगोड़े कारोबारी माल्या ने कहा, ‘मैं सम्मान के साथ यह पूछना चाहता हूं कि प्रधानमंत्री अपने बैंकों को यह निर्देश क्यों नहीं देते कि मैं किंगफिशर को मिलने वाले पब्लिक फंड को चुकाने के लिए मैं जो पैसा देने को तैयार हूं, वो उसे लें.’

माल्या ने कहा कि उन्होंने कर्नाटक हाईकोर्ट में इस मसले को निपटाने की पेशकश भी की थी. माल्या ने कहा, ‘इसे तुच्छ प्रस्ताव बताकर खारिज नहीं किया जा सकता. यह पूरी तरह से वास्तविक, गंभीर, ईमानदार और पूरा हो सकने वाली पेशकश है. अब गेंद दूसरे पाले में है. बैंक किंगफिशर एयरलाइंस को दिया गया कर्ज वापस क्यों नहीं लेते.’

एक और ट्वीट में माल्या ने कहा, ‘मैं प्रवर्तन निदेशालय के दावों के बारे में मीडिया में आई इन खबरों पर चकित हूं कि मैंने अपनी संपत्ति छुपाई है. यह जनता को गुमराह करने का शर्मनाक वाकया है, हालांकि यह बहुत अचरज की बात नहीं है. यदि कोई छुपी संपत्त‍ि होती तो मैं कोर्ट के सामने करीब 14,000 करोड़ रुपये की संपत्ति कैसे खुले आम पेश कर पाता?