पुलवामा आतंकी हमला: पीएम मोदी ने कहा- देश का खून खौल रहा है, हमने अपने सुरक्षाबलों को पूरी छूट दे दी है

0
654

सेंट्रल डेस्क: जम्मू एवं कश्मीर के पुलवामा में अवन्तीपुरा के गोरीपुरा इलाके में सीआरपीएफ (CRPF) के काफिले पर बड़ा आतंकी हमला हुआ है. हमले में CRPF के 40 जवान शहीद हो गए हैं. सीआरपीएफ काफिले पर हुए हमले में करीब 350 किलो IED का इस्तेमाल हुआ. आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने हमले की जिम्मेदारी ली और इसे आत्मघाती बताया. इस घटना से पूरे देश में रोष का माहौल है. इस नापाक हरकत के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर पूरे देश में मांग की जा रही है.

रिपोर्ट्स के मुताबिक उरी के बाद यह देश पर सबसे बड़ा हमला है. सेना के एक अधिकारी ने बताया कि सीआरपीएफ जवानों को निशाना बनाकर किए गए आईईडी विस्फोट की जिम्मेदारी आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली है. बता दें कि यह हमला श्रीनगर से सिर्फ 20 किलोमीटर की दूरी पर हुआ है. पीएम मोदी ने भी इस घटना पर दुख जताते हुए कहा है कि जवानों का बलिदान बेकार नहीं जाएगा. 

पीएम मोदी ने कहा कि पाकिस्तान खुद आर्थिक बदहाली के दौर से गुजर रहा है, लेकिन वह अपने ख्वाब छोड़ दे. उसका सपना कभी पूरा नहीं होगा. पीएम मोदी ने कहा कि पाकिस्तान के मंसूबे कभी पूरे होने वाले नहीं है. अब राजनीति से उपर उठकर आतंक से लड़ने का समय है. हम डटकर मुकाबला करेंगे. देश रुकने वाला नहीं है. हमारे वीर शहीदों ने अपने प्राणों की अाहुति दी है. देश के लिए मर मिटने वाला हर शहीद दो सपनों के लिए जिंदगी लगाता है. पहला, देश की सुरक्षा और दूसरा देश की समृद्धि. मैं सभी को नमन करता हूं और विश्वास दिलाता हूं कि उनके सपनों को पूरा करने के लिए हम पल-पल खपा देंगे.

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि आतंकवादी बड़ी गलती कर चुके हैं. देश एक साथ है. अब देश का एक ही स्वर है. लड़ाई हम जीतने के लिए लड़ रहे हैं. हमारा पड़ोसी अगर ये समझ रहा है कि जिस तरह की साजिश वो रच रहा है उससे भारत में स्थिरता पैदा करने में सफल हो जाएगा, तो यह ख्वाब छोड़ दे. यह कभी नहीं हो पाएगा. 

पीएम मोदी ने कहा कि हमले के जिम्मेदार लोगों को बहुत बड़ी कीमत चुकानी पड़ेगी. जो भी गुनहगार हैं, उन्हें उनके किये की सजा अवश्य मिलेगी.
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि लोगों का खून खौल रहा है. मैं भलीभांति इसको समझ पा रहा हूं. देश में कुछ कर गुजरने की भावनाएं हैं, वह भी स्वभाविक है. हमारे सुरक्षाबलों को पूर्ण स्वतंत्रता दे दी गई है और सैनिकों के शौर्य पर पूरा भरोसा है.