Purnia: कोरोना को नजरअंदाज करते हुए, मंदिरों की घण्टे की ध्वनि से लोगों ने नववर्ष की शुरुआत की

-10 महीने बाद एक-दूसरे से खुलकर मिले और अपने जज्बातों को शेयर किये



पूर्णिया/ राजेश कुमार झा: नववर्ष पर कोरोना को पूरी तरह नजर अंदाज करते हुए लोगों ने नववर्ष की शुरुआत की. बताते चलें कि जिले में अहले सुबह मंदिरों के घण्टे की आवाज से पूरा शहर नववर्ष की खुशियां मनाने घर से निकल पड़े. लोग ये भी भूल गए कि अभी भी हमलोगों के बीच कोरोना है.

10 महीने बाद एक दूसरे से खुलकर मिलने पर लोग ये भूल गए कि हम अभी कितनी बड़ी मुसीबत से बाहर निकलने की कोशिश कर रहे है. जिलेवासियों ने एक दूसरे से मिलते हुए अपने जज्बातों को सोशल मीडिया में शेयर किए.

बताते चलें कि पूर्णिया में नववर्ष की सुबह से ही जिले के सभी मंदिर,मस्जिद,गिरजाघर एवं गुरुद्वारे पर मत्था टेकने के बाद निकल पड़े पिकनिक मनाने.इस बार का नववर्ष का नजारा देखते ही बन रहा था. नववर्ष में सड़कों का सूनापन ये बता रहा था कि 10 महीने के बाद लोग अपने घरों से बाहर निकलकर एक दूसरे से मिलने के लिये कितने आतुर थे.

सभी लोग कोरोना को भूलकर नववर्ष के जश्न में सराबोर हो गए थे.लेकिन इन सबके बाबजूद कोरोना आज भी हमलोगों के बीच है. इसलिए कहते है सावधानी हटी दुर्घटना घटी.