रॉबर्ट वाड्रा ने फेसबुक पर बयाँ की अपनी पीड़ा!

0
322

विमलेन्दु सिंह/पटना: कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी के पति और सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा का दुःख उनके फेसबुक पोस्ट पर झलका है। आपको पता है कि रॉबर्ट आय से अधिक संपत्ति मामले में आयकर विभाग के निशाने पर रहे हैं।

उन्हें सियासी तौर पर परेशान करने की बातें कही जाती रही हैं. सत्तारूढ़ भाजपा गठबंधन पर सोची समझी साजिश के तहत रॉबर्ट को परेशान किये जाने की बातें होती रही हैं. उन्होंने लिखा है-

Relentless harassment !!
I have had nothing to hide and I am surely not above the law. I have deposed for almost 6 days; ranging from 8 to 12 hours per day with a 40 minute lunch break, n have been escorted to the washroom. I have completely cooperated and adhered to the rules whenever I was called in any part of the country.

Attachment of my work place- my office n areas that are subjudiced, shows a complete misuse of assertion of power, a complete vindictive & vicious witch hunt.

When truth sustains n prevails, I suppose an apology is all that will suffice.
Will stay determined for justice for me.

वह लिखते हैं-

अथक उत्पीड़न !!

मेरे पास छिपाने के लिए कुछ भी नहीं है और मैं निश्चित रूप से कानून से ऊपर नहीं हूँ. मैंने 6 दिनों तक लगभग 8 से 12 घण्टे हर रोज जांच में सहयोग किया है। मुझे 40 मिनट का लंच ब्रेक मिलता था.

मुझे जब भी देश के किसी भी हिस्से में बुलाया गया, मैं गया और मैंने नियमों का पूरी तरह से पालन किया. किसी भी अन्य व्यक्ति की तुलना में मुझसे अधिक पूछताछ की जा रही है. मेरे काम करने की जगह, मेरा ऑफिस पूरी तरह से जांच एजेंसियों की निगरानी में हैं. उसे अटैच कर लिया गया है. यह सब कानून की शक्तियों का पूरी तरह से दुरुपयोग है. यह साफ तौर पर प्रतिशोध की भावना को उजागर करता है.

मेरा संकल्प न्याय के लिए दृढ़ रहेगा.

रॉबर्ट वाड्रा ने फेसबुक पर यह पोस्ट किस मकसद से किया है और क्यों किया है, यह तो वे ही बेहतर बता सकते हैं. लेकिन तब इतनी बात तो है कि जांच एजेंसियां स्वतंत्र होकर काम कर रही हैं या सत्ता के दवाब में, इसकी पुष्टि अवश्य की जानी चाहिए. अगर दवाब में तो इसे भविष्य के लिए सही संकेत नहीं माना जाएगा और कालक्रमेण जांच एजेंसियाँ सत्ता के लिए उत्पीड़न का हथियार भर बनकर रह जाएंगी.