39.1 C
Delhi
Homeट्रेंडिंगसमस्तीपुर: साइबर विभाग द्वारा सुरक्षा जागरूकता कार्यशाला का आयोजन

समस्तीपुर: साइबर विभाग द्वारा सुरक्षा जागरूकता कार्यशाला का आयोजन

- Advertisement -spot_img

समस्तीपुर/(आर. कौशलेन्द्र): समस्तीपुर जिला समाहरणालय के सभागार मे रविवार को साइबर क्राइम विभाग के द्वारा साइबर सुरक्षा को ले कार्यशाला का आयोजन किया गया। इस कार्यशाला बैठक में समस्तीपुर एसपी  हरप्रीत कौर,  लॉ कॉलेज के प्रिंसिपल डॉक्टर संजीव कुमार, महिला कॉलेज समस्तीपुर के प्रोफेसर शीला सिन्हा एवं जिले के सभी थाने के DSP, अधिकारी एवं साइबर क्राइम के अधिकारी, स्कूली बच्चे, प्रिंट मीडिया एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के प्रतिनिधि शामिल हुए। वहीं वर्तमान समय में हो रही साइबर क्राइम की अधिकता को देखते हुए इससे बचने के उपाय सतर्कता पर विस्तृत चर्चाएं की गई। 

इस आयोजन में उपस्थित सभी प्रशासनिक पदाधिकारी एवं स्कूली बच्चों को संबोधित करते हुए एसपी हरप्रीत कौर ने कही कि साइबर क्राइम के शिकार आजकल हमलोगों के बीच के लोग आसानी से हो रहे हैं जिसका कारण है हमलोग सतर्क नहीं रहते है। कुछ बातों पर ध्यान देने से साइबर क्राइम के शिकार होने से बचा जा सकता है जैसे बैंक से रिलेटेड कोई फोन आए और दावा करे कि मैं बैंक कर्मचारी हूं तो उसके द्वारा पूछा गया किसी बात का जवाब ना दें। बेहतर होगा कि आप बैंक जाकर संपर्क करें एटीएम पिन ओटीपी या यूजर आईडी एवं पासवर्ड किसी को ना सौंपे। फेक एप से परहेज करें हमेशा गूगल प्ले स्टोर से ऐप डाउनलोड करें और ख्याल रखें कि आप किन-किन चीजों की परमिशन मांग रहा है।एप परमिशन चेक करने के लिए एप ब्रेन एड डिटेकटर ऐप डाउनलोड करें और देखें आपके फोन का कौन सी ऐप क्या परमिशन मांग रहा है।

लगभग 3,000 फेक ऐप अपलोड होते हैं। आप ऐप  डाउनलोड करते वक्त एप डिस्क्रिप्शन जरूर देखें रिव्यू एवं कमेंट पर ध्यान दें। ध्यान दे कोई गेमिंग एप आपसे एसएमएस की परमिशन क्यों मांग रहा है। इसी प्रकार किसी अन्य एपिसोड के लिए भी ध्यान दें। पासवर्ड सेट करते वक्त ध्यान रखें, हमेशा कैपिटल स्मॉल लेटर डिजिट एवं स्पेशल कैरेक्टर का उपयोग करें। कभी अपना नाम या डिस्कनरी शब्द का उपयोग पासवर्ड के लिए ना करें। फेक मेल, एसएमएस का कोई रिप्लाई ना दे अनावश्यक लिंक पर क्लिक ना करें।

अपने पासवर्ड को अक्सर बदलते हैं। अभिभावक अपने बच्चों को अगर मोबाइल या पीसी दे रहे हैं तो पैरेंटल कंट्रोल का ख्याल रखें जो कि आप अपने अनुसार कंट्रोल कर सकते हैं। आप किसी चीज के विजेता है या लॉटरी विजेता है इस प्रकार का ईमेल या एसएमएस आए तो उसका रिपोर्ट करें। अपने स्मार्टफोन में ओनर इनफॉरमेशन मैं अपने किसी दोस्त या परिवार का मोबाइल नंबर लिखे जो की डिस्प्ले होगा जिससे लुक स्क्रीन के बावजूद उस नंबर पर आपातकालीन समय में संपर्क किया जा सके। डिजीलाॅकर एप का उपयोग करें जिससे अगर आप अपना जरूरी और आवश्यक सरकारी डॉक्यूमेंट आप खुद से भी डाउनलोड कर सकते हैं।

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -