सीतामढ़ी: बैरगनिया आरटीपीएस काउंटर पर उमड़ रही भीड़, गिरी दीवार

सीतामढी़/बैरगनियांं/रमेश सिंह: नए राशन कार्ड बनबाने व कार्ड में पारिवारिक सदस्यों का नाम जोड़वाने के लिए आवेदनकर्ताओं की लंबी कतार अहले सुबह चार बजे से आरटीपीएस काउंटर पर लग जा रही है।इसी बीच एक पुरानी दिवार भी गिर गयी।बताया जा रहा पुलिस की मशक्कत के बाबजूद सोशल डिस्टेंस का पालन नहीं हो पा रहा है।मिली जानकारी के अनुसार हाल के महीने में कुछ नए राशन कार्ड का वितरण होने व नया राशन कार्ड बनबाने के साथ छुटे हुए सदस्यों का नाम जोड़वाने के लिए आवेदन आरटीपीएस काउंटर पर जमा होना शुरू होते ही प्रखंड के शहरी व ग्रामीण क्षेत्र से रोजाना तकरीबन पांच सौ महिलाओं की भीड़ अहले सुबह 4 बजे से लगनी शुरू हो जा रही है।



चार होमगार्ड जवान के।साथ दो महिला सिपाही की तैनाती के बाबजूद आवेदनकर्ता महिलाएं लाइन में लगने को कतई तैयार नहीं हो रही है हालांकि पुलिस हर संभव कोशिश कर काउंटर के पास लाइन लगवाने में सफल होते है।कार्यावधि में एक पखबारे के अंदर करीब एक हजार आवेदन जमा हो चुके है।सीओ अमित कुमार बताते है कि बिना मास्क के पहुँची इन महिलाओं को मास्क लगाने की सलाह बार-बार दी जा रही है लेकिन कोई भी सुनने को तैयार नही है और न लाइन में लग रही है।पुलिस बल की सक्रियता से काउंटर के समीप लाइन को मुकम्मल लगवा दिया जा रहा है।उन्होंने बताया कि नगर पंचायत के वार्ड वार व पंचायत वार दिन निर्धारित होने के बाबजूद रोजाना पांच सौ से अधिक महिला आवेदनकर्ता पहुँच रही है।सीमित कर्मी के बूते इतना आवेदन एक दिन में जमा ले पाना संभव नहीं होना से प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है।


-बैरगनिया आरटीपीएस काउंटर के पास दीवार गिरी
आरटीपीएस काउंटर पर राशन कार्ड बनबाने व नाम जोड़वाने के लिए उमड़ रही भीड़ के धक्का-मुक्की से बर्षो पुरानी एक दीवार ढह जाने से कई महिलाएं सहित एक अंचल कर्मी भी चोटिल हुए है।आरटीपीएस काउंटर पर जल्दबाजी में आवेदन जमा कर निकलने की जुगत में महिलाएं आपस मे लगातार भिड़ती दिख रही है।इसी क्रम में गुरुवार को काउंटर के उत्तर वाली पुरानी दीवार ढह गई जिससे आवेदन करने पहुची कई महिलाएं चोटिल हुई वही धक्का-मुक्की का शिकार होकर अंचल कर्मी राम उदगार मंडल चोटिल हो गए है।सीओ अमित कुमार बताते है कि चार अंचल गार्ड के अतिरिक्त थाना से आई दो महिला सिपाही के रहने के बाबजूद भीड़ को नियंत्रित कर पाना मुश्किल हो गया है।