39.1 C
Delhi
HomeNewsसंकट में श्रीलंका : सिर्फ एक सांसद वाली पार्टी के प्रमुख...

संकट में श्रीलंका : सिर्फ एक सांसद वाली पार्टी के प्रमुख रानिल विक्रमसिंघे ने पांचवी बार संभाली श्रीलंका के प्रधानमंत्री पद की कमान

- Advertisement -spot_img

कोलंबो, बीपी संवाददाता। श्रीलंका में जारी राजनीतिक हलचल के बीच रानिल विक्रमसिंघे ने प्रधानमंत्री पद की कमान संभाल ली है। उन्हें राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। रानिल विक्रमसिंघे इससे पहले भी चार बार श्रीलंका के प्रधानमंत्री रह चुके हैं। देश इस समय राजनीतिक अस्थिरता, आर्थिक संकट और हिंसा से जूझ रहा है। देश में आपातकाल लगा है, ऐसे में श्रीलंका का प्रधानमंत्री बन रानिल विक्रमसिंघे के लिए यह पद कांटो भरा ताज है। कुल 225 सदस्यों वाली श्रीलंकाई संसद में रानिल विक्रमसिंघे की पार्टी यूनाइटेड नेशनल पार्टी (यूएनपी) के पास सिर्फ एक सीट है। सत्तारूढ़ श्रीलंका पोदुजाना पेरामुना (एसएलपीपी), विपक्षी समगी जन बालावेगाया (एसजेबी) के एक धड़े और अन्य कई दलों ने विक्रमसिंघे के संसद में बहुमत साबित करने के लिए समर्थन जताया है।

यूनाइटेड नेशनल पार्टी के एकमात्र सांसद रानिल विक्रमसिंघे का जन्म 24 मार्च 1949 को हुआ था। वह 1994 से यूनाइटेड नेशनल पार्टी के सुप्रीमो हैं। उन्होंने मई 1993 से अगस्त 1994, दिसंबर 2001 से अप्रैल 2004, जनवरी 2015 से अक्टूबर 2018 और दिसंबर 2018 से नवंबर 2019 तक श्रीलंका के प्रधानमंत्री के रूप में कार्य किया है। मतलब वह कभी भी तीन साल से ज्यादा प्रधानमंत्री के पद पर नहीं रह सके। ऐसे में वह इस बार कितने दिन अपने पद पर टिके रहते हैं यह देखना महत्वपूर्ण होगा।

यह भी बढ़ें…

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -