रूसी की स्पूतनिक वी टीका की पहली खेप पहुंची हैदराबाद

हैदराबाद/तेलंगाना/ अंकिता राय: रूस में विकसित स्पूतनिक वी की पहली डेढ़ लाख खुराक कल हैदराबाद पहुंच गई। भारत की वैक्सीन कंपनी डॉ रेड्डी के सहयोग से रूस की वैक्सीन की पहली खेप का आयात किया गया है।


रूस की इस वैक्सीन को भारत में कोविड-19 के संक्रमण को रोकने में, तीसरे विकल्प के रूप में देखा जा रहा है। अभी तक भारत में कोवैक्सीन और कोविशील्ड के नाम से दो स्वदेशी वैक्सीन उपलब्ध है। इस नए वैक्सीन के जुड़ जाने के बाद यहाँ टीकाकरण में और तेजी आने की संभावना है।

स्पुतनिक वी वैक्सीन का निर्माण रूस में गामाले नेशनल रिसर्च फॉर एपिडेमियोलॉजीऔर माइक्रोबायोलॉजी मास्को के शोधकर्ताओं ने विकसित किया था । एक पत्रिका में प्रकाशित पेपर के आधार पर स्पुतनिक वी वैक्सीन की प्रभाविकता 93% के करीब है। यह वैक्सीन दो खुराक में आता है जिसे 3 सप्ताह के अंतर पर लगाना होता है। देश भर में 25 जगहों पर 1600 से ज्यादा लोगों पर इसका परीक्षण किया जा रहा है और इसके प्रयोग की मंजूरी मिलने की संभावना है।