प्रशिक्षण से बढ़ता है स्वरोजगार के लिए आत्मविश्वास, सुधरेगा जीवन स्तर : केके सिंह

मोतिहारी/प्रतिनिधि: प्रशिक्षणार्थियों का मूल्यांकन व उनका प्रमाणीकरण प्रशिक्षणों के बाद उनके अन्दर स्वरोजगार शुरू करने के लिए आत्मविश्वास मजबूत होता है। जिसके माध्यम से आप अपने जीवन स्तर में सुधार आसानी से कर सकते हैं। उक्त बातें ऐसेसमेंट एण्ड सर्टिफिकेशन आरसेटी बिहार के असिस्टेंट कंट्रोलर के. के. सिंह ने शनिवार को शहर के भवानीपुर जिरात स्थित सेन्ट आरसेटी प्रशिक्षण केंद्र में पशुपालकों के लिए चलाई जा रही दस दिवसीय पशुपालन सह वर्मी कंपोस्ट एंड मेकिंग प्रशिक्षण के समापन पर समारोह को संबोधित करते हुए कही।


श्री सिंह ने पशुपालकों के उज्जवल भविष्य की कामना करते हुए इन्हें पशुपालन कर अपने जीवन स्तर को सुधारने तथा प्रभावशाली बनाने की सलाह दी। कहा कि इससे बेरोजगारी अवश्य दूर होगी। साथ ही एक समृद्ध समाज का निर्माण होगा। बता दें कि पढ़े-लिखे बेरोजगार नवयुवकों व साक्षर महिलाओं के लिए बीते 10 मार्च से यह प्रशिक्षण प्रारंभ की गई, जिसका समापन आज हुआ। प्रशिक्षण के लिए 35 अभ्यर्थियों का चयन किया गया था।

जिसमें सफल 32 प्रशिक्षुओं को प्रमाण-पत्र दिए गए। सेन्ट्रल बैंक एलडीएम सह प्रभारी निदेशक रामेश्वर रजक ने आर्थिक रूप से कमजोर अभ्यर्थियों को बैंक से ऋण लेने की सलाह दी। मौके पर डोमेन असेसर राजेेेश कुुमार हाजीपुर(वैशाली), गेस्ट फैकल्टी नीरज आनन्द, सेन्ट आरसेटी फैकल्टी अर्पणा राज, कार्यालय सहायक मनीष कुमार, राजेश कुमार, चंद्रभूषण तिवारी, बृजमोहन कुमार, मधुपाल, नितेश, दीपक, राकेश रोशन, मुमताज अहमद, पप्पूू कुमार, बिकेश एवं अजय सहित अन्य मौजूद रहे।