20.1 C
Delhi
Homeकॅरियरएग्जामिनेशनUPSC CSE Result 2020: प्रयागराज के सृजन की पहले प्रयास में 39वीं...

UPSC CSE Result 2020: प्रयागराज के सृजन की पहले प्रयास में 39वीं रैंक, बिहार के निरंजन कुमार के पिता चलाते है खैनी की दुकान

- Advertisement -

सेंट्रल डेस्क: संघ लोक सेवा आयोग की सिविल सेवा परीक्षा में संगमनगरी के मेधावी छात्र सृजन वर्मा ने पहले प्रयास में ही अखिल भारतीय स्तर पर 39वीं रैंक हासिल की। सृजन ने 2012 में सेंट जोसेफ कॉलेज से 93 प्रतिशत अंकों के साथ 12वीं उत्तीर्ण किया। इसके बाद उन्होंने आईएसएम धनबाद से 2017 में बीटेक की डिग्री ली।

बीटेक के बाद 2018 से दिल्ली में रहकर सिविल सेवा की तैयारी शुरू कर दी। 2018 में इंडियन इंजीनियरिंग सर्विस में उन्हें ऑल इंडिया तीसरी रैंक मिली थी। उसके बाद ट्रेनिंग से छुट्टी लेकर आईएएस की तैयारी करने लगे। इंडियन इंजीनियरिंग सर्विस के तहत रेलवे में चयन हो चुका है और फिलहाल इनकी ट्रेनिंग महाराष्ट्र में चल रही है।

बिहार के नवादा जिले के पकरीबरावां प्रखण्ड मुख्यालय के रहने वाले अरविन्द कुमार एवं यशोदा देवी के पुत्र निरंजन कुमार ने भी यूपीएससी में परचम लहराया है। निरंजन ने 535वां स्थान प्राप्त किया है। 2016 में यूपीएससी की परीक्षा में सफलता मिली थी। उस समय उनकी 728वीं रैंक थी। फिलहाल वे दिल्ली में इनकम टैक्स में डिप्टी कमिश्नर के पद पर आसीन है।

निरंजन के पिता मूलतः वारिसलीगंज के रहने वाले हैं। वे पकरीबरावां बाजार में खैनी की दुकान चलाते हैं। निरंजन ने वर्ष 2004 में जवाहर नवोदय विद्यालय रेवार नवादा से मैट्रिक की परीक्षा पास की। वर्ष 2006 में उसने साइंस कॉलेज पटना से इंटर की परीक्षा उत्तीर्ण की। इसके बाद आईआईटी किया। आईआईटी करने के बाद उन्होंने कोल इंडिया लिमिटेड धनबाद में सहायक मैनेजर के पद पर कार्य किया। इस बीच उन्होंने यूपीएससी की तैयारी शुरू कर दी थी।

2015 में सिविल सेवा परीक्षा की टॉपर रही टीना डाबी की छोटी बहन रिया डाबी ने UPSC-2020 की परीक्षा में 15वीं रैंक हासिल की।

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -