पुलिस मुठभेड़ में गोली लगने से शराब माफिया हुआ जख्‍मी, 14 केस हैं दर्ज

स्टेटडेस्क : जब से प्रयागराज में अवैध शराब से मौतें हुई हैं। प्रयागराज की पुलिस ने शराब माफिया और अवैध शराब की धरपकड़ तेज कर दी। इसी क्रम में सोमवार की देर रात नवाबगंज थाना क्षेत्र के श्रृंग्वेरपुर गांव के समीप सोमवार देर रात एसओजी गंगापार और शराब माफिया में मुठभेड़ हो गई। अपने को पुलिस से घिरा देख शराब माफिया ने गोली चलाई। जवाबी फायरिंग में शराब माफिया को गोली लगी। मुठभेड़ में शराब माफिया के पैर में गोली लग गई है। उसे पुलिस ने गिरफ्तार कर इलाज के लिए अस्‍पताल में भर्ती कराया। शराब माफिया के पास से पुलिस ने नकली शराब बनाने के उपकरण तमंचा और कारतूस बरामद किया।


पूछताछ में उसके कई साथियों का नाम भी सामने आया है। जिनकी तलाश में दबिश दी जा रही है। श्रृंगवेरपुर गांव के समीप सोमवार देर रात एसओजी गंगापार प्रभारी मनोज सिंह वाहनों की जांच कर रहे थे। उसी समय बाइक सवार एक व्यक्ति को रोकना चाहा था। लेकिन वह पुलिस पर गोली चलाते हुए भागने लगा। पुलिस ने घेराबंदी कर जवाबी फायरिंग की तो उसके पैर में गोली लगी और वह सड़क पर गिर पड़ा। उसके पास से तमंचा कारतूस मिला। बाइक की तलाशी में नकली शराब की कई शीशियां और शराब बनाने के कुछ उपकरण भी बरामद हुए। सूचना पर वहां एसपी गंगापार धवल जायसवाल, सीओ सोरांव आदि मौके पर पहुंचे।

एसपी गंगापार ने बताया कि पकड़ा गया सरायममरेज का रहने वाला शराब माफिया वीरेंद्र कुमार पटेल है। उसके खिलाफ विभिन्न थानों में 14 मामले दर्ज हैं। बताया कि नवाबगंज, हंडिया और सरायममरेज थाने का वांछित अपराधी है। वह नकली शराब के धंधे से जुड़ा है। पूछताछ में उसने बताया कि वह अपने साथियों के साथ क्षेत्र में नकली शराब को बेचने आया था। उसने अपने साथियों का नाम भी बताया है। एसओजी गंगापार प्रभारी मनोज सिंह का कहना है कि कई नाम सामने आए हैं। उनको पकड़ने के लिए पुलिस दबिश दे रही है