27.1 C
Delhi
Homeउत्तर प्रदेशकानपुरबंद हो जाएगी 145 साल पुरानी लाल इमली, अफसरों को अल्टीमेटम

बंद हो जाएगी 145 साल पुरानी लाल इमली, अफसरों को अल्टीमेटम

- Advertisement -

कानपुर/फैज़ान हैदर : शहर में कपड़ा मिलों की बड़ी कंपनी रही ब्रिटिश इंडिया कॉरपोरेशन अब दो महीने में बंद होने वाली है और इसके मुख्यालय, धारीवाल और लाल इमली पर भी ताला लगा दिया जाएगा। कंपनी के चेयरमैन बलवंत कुमार ने कंपनी के बचे हुए कर्मचारियों और अधिकारियों से कहा है कि दो महीने में सारा काम खत्म कर लें। कंपनी ने कर्मचारियों को वीआरएस देने का ऐलान भी कर दिया है। हालाकिं जिन कर्मचारियों का काम बचा रह गया उन्हेंं वीआरएस की कोई सुविधा नहीं दी जाएगी। बीआईसी की कई मिलें बंद हो चुकी हैं और अब दफ्तर के नाम पर सिर्फ बंगले बचे हैं। बीआईसी में अभी भी लगभग 1000 अधिकारी और कर्मचारी हैं जिन्हें कई महीनों से वेतन नहीं मिला है।

दरअसल, लाल इमली को बंद करने के लिए इंटर मिनिस्ट्रियल कमेंट्स प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। हालांकि, यह प्रक्रिया 2017 से चल रही थी, लेकिन अब इसमें तेजी आई है। लाल इमली में कर्मचारियों व अधिकारियों के बकाया भुगतान के लिए स्थानीय जन प्रतिनिधियों ने वस्त्र मंत्रालय तक उनकी बात पहुंचाई है। इसके बाद भुगतान किए जाने के साथ बकाया पड़े काम पूरे कराने की कवायद भी तेज हो गई है। वहीं 550 कर्मचारियों व अधिकारियों के बीच एरियर, लीव इनकैशमेंट व करीब तीन साल के वेतन के एवज में 60 करोड़ रुपए का भुगतान होना अभी बाकि है।

चेयरमैन बलवंत कुमार ने अधिकारियों से वीडियो मीटिंग कर कहा है कि फैसला हो चुका है। दो महीने बाद बीआईसी, लाल इमली और धारीवाल का काम समेट दिया जाएगा। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि दो माह बचा है जिसमें काम पूरा करना जरूरी है। काम न पूरा कर पाने वाले अधिकारियों को वीआरएस का लाभ नहीं मिलेगा। सभी अधिकारी दो माह में दिया गया कार्य पूरा कर लें। अब बंदी को दो माह से अधिक नहीं टाला जाएगा। श्रमिक नेता आशीष पांडेय और अजय सिंह ने चेयरमैन के सामने कर्मचारियों का पक्ष रख्खा है। कर्मचारियों को भी वीआरएस देने की तैयारी है। अगले हफ्ते कर्मचारी प्रतिनिधियों से बात की जाएगी।

- Advertisement -


- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -