पंचायत चुनाव के नामांकन में दस्तावेजों के नाम पर प्रत्याशियों से करोड़ों की वसूली

कानपुर/फैज़ान हैदर : पंचायत चुनाव की सरगर्मियां चरम पर हैं। पहले चरण के तहत कानपुर नगर में मतदान होना है। पहले दिन की भांति रविवार को दूसरे दिन भी सरकारी कर्मचारियों ने अदेय प्रमाण पत्र बनावाने के नाम पर जमकर लूट मचाई। उम्मीदवारी खारिज होने के भय से घूसखोर कर्मचारी के सामने उम्मीदवार मजबूर दिखे। इन दो दिनों में जनपद में 15428 उम्मीदवारों ने अलग-अलग पदों के लिए नामांकन कराया है।


आरोप है कि एक उम्मीदवार से औसतन 1500 रुपया अदेय प्रमाण पत्र के नाम पर वसूली की गई है। ऐसे में जनपद से लगभग दो करोड़ रुपये से अधिक उम्मीदवारों से उगाही की गई है। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में नामांकन कराने के लिए सभी पदों के उम्मीदवारों को पांच प्रकार के अदेय प्रमाण पत्र संलंग्न करना सुनिश्चित किया गया था। इसमें जिला पंचायत, क्षेत्र पंचायत, ग्राम पंचायत, सहकारी समिति और भूमि विकास संबंधित रही। इन सभी विभागों के कर्मचारी नामांकन स्थलों पर मौजूद रहें।

जिला पंचायत के कर्मचारी निधारित शुल्क से अधिक सात सौ रुपया ले रहे ​थे। क्षेत्र पंचायत, ग्राम पंचायत, सहकारी समिति और भूमि विकास बैंक के कर्मचारी अदेय प्रमाण पत्र के नाम पर अवैध वसूली कर रहे थे, जबकि यह सभी नि:शुल्क हैं।