28.1 C
Delhi
Homeउत्तर प्रदेशकानपुर में सबसे पहले कुकर बम का हुआ था प्रयोग

कानपुर में सबसे पहले कुकर बम का हुआ था प्रयोग

- Advertisement -

-आर्य नगर चौराहे पर रेत और मौरंग के ढेर में किया गया था धमाका
-बाद में दिल्ली और वाराणसी के संकटमोचन मंदिर में कुकर बम से मचा था हाहाकार

कानपुर,12 जुलाई 2021 : लखनऊ के काकोरी इलाके से जिन दो आतंकवादियों को गिरफ्तार किया गया है उनके पास से कुकर बम बनाने की सामग्री और एक‌ कुकर में तैयार बम मिला है। बेहद ख़तरनाक माने जाने वाले इस बम का सबसे पहले प्रयोग कानपुर में किया गया था।

वर्ष 1994-95 के आसपास आर्य नगर चौराहे पर एक धमाके ने शहर प्रशासन की नींद उड़ा दी थी। तब आर्य नगर चौराहे पर बन रही एक मल्टी स्टोरी के लिए लाई गई रेत और मौरंग के ढेर में यह विस्फोट किया गया था। सूत्रों के मुताबिक तब यह बम दहशत फैलाने के लिए नहीं बल्कि प्रयोग के तौर पर किया गया था। कुकर बम में तब विस्फोटक सामग्री बहुत कम मिलाई गई थी। बाद में इसी कुकर बम ने दिल्ली के व्यस्त बाजारों में दहशत फैलाई थी जिसमें दर्जनों लोगों की मौत हो गई थी।

यह भी पढ़े….

इसी कुकर बम का वाराणसी के संकटमोचन मंदिर में इस्तेमाल कर विस्फोट किया गया था। तब मंदिर में एक मुंडन संस्कार का समारोह चल रहा था। इस धमाके में भी काफी जानें गईं थीं। उस समय तो किसी की गिरफ्तारी आर्य नगर विस्फोट कांड में नहीं हो पाई थी पर बाद में शहर पुलिस ने लश्करे तैयबा के तीन सदस्यों को गिरफ्तार किया था और दावा किया था कि आर्य नगर चौराहे पर हुए विस्फोट इन्हीं तीनों की कारगुज़ारी थी।

- Advertisement -



- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -