इस्‍लाम और पैगंबर की शान में गुस्ताखी, सड़कों पर उतरा मुस्लिम समाज

कानपुर/फैज़ान हैदर : दिल्ली में हुए प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद विवाद बढ़ता जा रहा है। प्रेस कॉन्‍फ्रेंस के दौरान कथित रूप से इस्‍लाम और पैगंबर मोहम्‍मद के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्‍पणी पर विवाद हो गया है। इस मामले में दिल्ली पुलिस ने वीडियो का संज्ञान लेते हुए नरसिंहानंद को प्रेस क्लब में हुए कार्यक्रम में पैगंबर मुहम्मद के खिलाफ आपत्तिजनक भाषा का उपयोग करते हुए देखा है। दिल्ली पुलिस ने आईपीसी की धारा 153-ए और 295-ए के तहत संसद मार्ग पुलिस स्टेशन में प्राथमिकी दर्ज की है।


दिल्ली प्रेस क्लब में हुई प्रेस कांफ्रेंस में नरसिंहानंद के आपत्तिजनक बयान के बाद हिंदुस्तान का मुस्लिम समाज अब सड़कों पर उतर आया है। एमएम जोहर एसोसिएशन के बैनर तले ज़फर हयात हाश्मी ने घंटाघर चौराहे पर नरसिंहानंद सरस्वती को गिरफ्तार करने की मांग करते हुए जोरदार प्रदर्शन किया। साथ ही कानपुर पुलिस से अपील कि है इस जैसे ग़ुस्ताख़ को सलाख़ों के पीछे भेजा जाए। उन्होंने कहा कि हम हर धर्म और उनके गुरुओं का सम्मान करते हैं और हम चाहते हैं कि कोई भी किसी धर्म की भावना को आहत न करे।

उन्होंने कहा की ऐसा बयान देने वाले की ‘जुबान और गर्दन, दोनों काटकर’ सख्त सजा देनी चाहिए। कानपुर पुलिस से अपील करते हुए उन्होंने इस गुस्ताख़ के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है। उन्होंने बताया कि नरसिंहानंद जैसे लोग समाज में रहने लायक नहीं हैं। ये लोग देश का माहौल बिगाड़ रहे हैं और इन्हें खुला नहीं छोड़ा जा सकता। इस प्रकार का बयान देकर वह पूरे देश को अराजकता और सम्प्रदायिक्ता में झोंकने का काम किया है।