31.1 C
Delhi
Homeउत्तर प्रदेशकानपुरकानपुर : कोरोना की चौथी लहर से सावधान रहने की जरूरत, वेरिएंट...

कानपुर : कोरोना की चौथी लहर से सावधान रहने की जरूरत, वेरिएंट में हो सकता है बदलाव- प्रो मणींद्र अग्रवाल

- Advertisement -spot_img

-3 जुलाई तक चौथी लहर आने की संभावना

कानपुर, बीपी प्रतिनिधि।
देश भर में एक बार फिर कोरोना के नए केस मिल रहे है। आईआईटी कानपुर के जानकारों ने बताया था कि देश में कोरोना की चौथी लहर 23 जून के आस-पास शुरू होगी, जो अक्टूबर तक जा सकती है। साथ ही उन्होंने यह भी बताया था कि इसका पीक अगस्त के आसपास होगा। आईआईटी प्रोफेसर प्रो मणींद्र अग्रवाल जिन्होंने अपने गणितीय मॉडल के आधार पर कोरोना की पहली और दूसरी लहर का सटीक आकलन किया था।

उन्होंने चौथी लहर को लेकर एक नया दावा किया है कि देश में कोरोना की चौथी लहर नहीं आने वाली। उनका कहना है देश में जितने भी केस मिल रहे है, वह सब ओमीक्रॉन फैमली के है, यानी सब वेरिएंट जो की तीसरी लहर में पाए गए थे। चौथी लहर की संभावना लगभग नहीं के बराबर है।

अगर सब वेरिएंट अपने म्यूटेंट में बदलाव करेगा तो संक्रमण घातक हो सकता है। और देश में रोजाना 40 हजार से ज्यादा केसों के मिलने की संभावना है। ऐसे में बेहद सावधान रहने की आवश्यकता है कोरोना वेरिएंट में बदलाव हो सकता है।
आईआईटी कानपुर के एक अन्य प्रोफेसर ने बताया, पिछले एक हफ्ते से हमारी टीम कोरोना के बढ़ते हुए आकडों पर नजर रखे हुए है।

दो दिन यह आकड़े स्थिर रहने के बाद तीसरे दिन बढ़ रहे है। जो आकड़े आज आए है इनको 14 से 15 हजार के आसपास होना चाहिए था। लेकिन यह 17 हजार के पास चले गए। इसके पीछे के कारणों का पता लगाया जा रहा है। देखना होगा आंकड़ो में कहीं कुछ गड़बड़ तो नहीं हुआ है। मेरी टीम की स्टडी के अनुसार 3 जुलाई तक चौथी लहर आने की संभावना हो सकती है। अभी हम लोग डाटा कलेक्ट कर रहे है। शायद एक से दो दिनों में इस स्टडी को हम लोग ओपन करे।

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -