बांदा में भाजपा के पूर्व मंत्री समेत कई पदाधिकारी 6 साल के लिए पार्टी से निष्कासित

कानपुर/आशुतोष त्रिपाठी । बाँदा जनपद में भाजपा के अधिकृत प्रत्याशियों के खिलाफ चुनाव लडऩे व विरोध करने के मामले में पूर्व मंत्री शिवशंकर पटेल समेत कई पदाधिकारियों को पार्टी से छह वर्ष के लिए निष्कासित कर दिया गया। जिलाध्यक्ष रामकेश निषाद से मिली जानकारी के अनुसार इसकी सूचना प्रदेश नेतृत्व को दी गई थी। प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव ङ्क्षसह के निर्देश पर पार्टी से छह वर्षों के लिए निष्कासित कर दिया गया है।


पंचायत चुनाव में भाजपा द्वारा अधिकृत प्रत्याशियों के विरुद्ध चुनाव लड़ रहे है। अधिकृत पार्टी प्रत्याशी के विरुद्ध प्रचार कर रहे पार्टी कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों पर प्रदेश नेतृत्व की गाज गिरी है। जिला मीडिया प्रभारी आनंद स्वरूप द्विवेदी से मिली जानकारी के अनुसार पूर्व मंत्री शिवशंकर सिंह पटेल, पूूर्व जिलाध्यक्ष अनुसूचित मोर्चा भैरमदीन कोटार्य और जिला कार्यकारिणी सदस्य बाबूराम निषाद को पार्टी से निष्कासित कर दिया गया है। वही पूर्व मंत्री शिवशंकर पटेल बीजेपी प्रत्याशी के विरोध में अपनी पत्नी को जिला पंचायत सदस्य का चुनाव लड़वा रहे हैं। आरोप है कि इसके पहले भी वह पार्टी विरोधी गतिविधियों में लिप्त पाए गए थे। जबकि अनुसूचित मोर्चा के पूर्व जिलाध्यक्ष भैरमदीन कोटार्य भी अपनी पत्नी को जिला पंचायत सदस्य का चुनाव लड़वा रहे हैं।

जबकि जिला कार्यकारिणी सदस्य बाबूराम निषाद अपनी मां को जिला पंचायत सदस्य का चुनाव लड़वा रहे हैं। जबकि पूर्व जिला मंत्री मीना भारती, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष कृष्णा ङ्क्षसह पटेल, रामहित पटेल, संतोष त्रिपाठी, संतोष मिश्रा, अतर्रा मंडल हरिओम त्रिपाठी, ओरन मंडल उपाध्यक्ष हरिशंकर दुबे, विजय उपाध्याय, पूर्व मंडल मंत्री पीसी पटेल, अवधेश नारायण तिवारी, अंबिका त्रिपाठी, कमल स्वरूप अवस्थी, महिला मोर्चा मंडल अध्यक्ष शकुंतला मिश्रा और भाजयुमो मंडल महामंत्री उमेश निषाद खुद भी चुनाव लड़ रहे हैं। जिलाध्यक्ष रामकेश निषाद का कहना है कि पंचायत चुनाव में अधिकृत प्रत्याशी ही झंडा चिन्ह व अन्य सामग्री का उपयोग कर सकते हैं। इसके अलावा किसी ने किया तो संवैधानिक कार्यवाही की जाएगी।