सतीश महाना ने समीक्षा बैठक में अफसरों को दिए निर्देश, बेड बढ़ाएं और रेमडेसिविर की न होने दें कमी

कानपुर/आशुतोष त्रिपाठी : कानपुर में कोरोना संक्रमितों के बढ़ते मामलों को रोकने और बेड की कमी दूर करने को लेकर औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने नगर निगम स्थित कोविड कंट्रोल रूम में बैठक की है। जिसमे उन्होंने कहा कि निजी अस्पताल जिन्हें कोविड के उपचार की अनुमति दी गई है। वहां बेड बढ़ाने के लिए प्रबंधन से बात करें। अस्पतालों में रेमडेसिविर इंजेक्शन की कमी न होने पाए। इंजेक्शन का अपने पास पर्याप्त स्टाक होना चाहिए। औद्योगिक विकास मंत्री को हैलट और कांशीराम अस्पताल में बेड फुल होने की जानकारी दी गई। उन्होंने कहा कि कुछ और अस्पतालों कोविड के उपचार के लिए अधिकृत कर सकते हैं।


इतना ध्यान रखें कि वहां मरीजों के उपचार के लिए सारे मानक पूरे होने चाहिए जिससे बेहतर उपचार मिल सके। उन्हें रेमडेसिविर के स्टॉक की जानकारी दी गई। महाना ने कहा कि जो भी जरूरत हो उसके बारे में उन्हें बताया जाये वह पूरी कराएंगे। मरीजों की मौत हर हाल में रोकनी होगी और लोगों को यह प्रेरित भी करना है। कोरोना गाइडलाइन के नियमों का पालन करें व मास्क लगाएं और बिना वजह घर से बाहर न जाएं। औद्योगिक विकास मंत्री ने संक्रमितों के संपर्क में आए लोगों की कांट्रेक्ट ट्रेसिग में तेजी लाने के आदेश दिए। बैठक मंडलायुक्त डॉ. राजशेखर, डीएम आलोक तिवारी, नगर आयुक्त अक्षय त्रिपाठी, सीएमओ डॉ. अनिल मिश्रा उपस्थित रहे। डीएम आलोक तिवारी ने गोविद नगर स्थित रीजेंसी हॉस्पिटल का निरीक्षण किया। वहां भर्ती कोविड मरीजों से वीडियो कांफ्रेंसिग के जरिए से बात की।

मरीज से उन्होंने पूछा कि उपचार बेहतर हो रहा है सबने हां में सिर हिलाया। इस अस्पताल में उन्हें 40 मरीज भर्ती मिले। उन्होंने निर्देशित किया कि मरीजों का इलाज कोविड प्रोटोकॉल के ही अनुसार किया जाए। ओवरबिलिग नहीं होनी चाहिए। परिजनों को मरीज की स्थिति के विषय में जानकारी समय-समय पर दी जाए। सभी विशेषज्ञ डॉक्टर 24 घंटे उपस्थित रहें। उन्होंने उपस्थित डॉक्टरों के रोस्टर को भी देखा। वीडियो कांफ्रेंसिग के दौरान उन्होंने एक मरीज से पूछा कि चिकित्सक समय पर आते हैं तो उसने कहा हां। उन्हें कोई दिक्कत नहीं है। इसके बाद उन्होंने जागेश्वर हॉस्पिटल का निरीक्षण किया। वहां 143 लोगों को कोविड का टीका लगाया गया था। उनके साथ सीएमओ डॉ. अनिल मिश्रा रहे। वही शहर में बढ़ते कोविड के संक्रमण की रोकथाम के लिए पुलिस आयुक्त और जिला प्रशासन ने रात्रिकालीन क‌र्फ्यू की व्यवस्था की है।

वहीं नवरात्र व अन्य त्योहारों पर धार्मिक स्थलों में भीड़ न लगने के निर्देश जारी किए थे। मंगलवार रात पुलिस लाइन में अपर पुलिस आयुक्त कानून एवं व्यवस्था आकाश कुलहरि और एडीएम सिटी अतुल कुमार ने धार्मिक स्थल के महंतों के साथ बैठक की। अपर पुलिस आयुक्त ने कहा कि धार्मिक स्थलों में एक बार पांच से अधिक लोग नहीं जाएंगे। जो भी श्रद्धालु धार्मिक स्थल में प्रवेश करेगा वह कोविड गाइडलाइन का पालन करेगा। उन्होंने धार्मिक स्थलों के महंतों से समिति की ओर से वहां मास्क और सैनिटाइजर आदि की व्यवस्था कराने के निर्देश दिए। उनका कहना था कि अगर कोविड गाइडलाइन का पालन नहीं किया गया तो धार्मिक स्थलों को भी बंद कराना पड़ेगा। अपर पुलिस आयुक्त ने मठ मंदिर समन्वय समिति के संयोजक को इंटरनेट मीडिया के माध्यम से प्रचार प्रसार करने के निर्देश दिए। बैठक में आनंदेश्वर मंदिर के महंत अरुण भारती, अजय पुजारी, बनखंडेश्वर मंदिर से रामकिशोर तिवारी, विश्व हिदू परिषद से कुशलपाल सिंह, मठ मंदिर समन्वय समिति के संयोजक शेष नारायण त्रिवेदी पप्पू मौजूद रहे।