कोरोना की बढ़ती रफ्तार से प्रदेश में लटक रही जनता कर्फ्यू की तलवार

कानपुर/विकास बाजपेयी : उत्तर प्रदेश के कानपुर समेत चार प्रमुख शहरों में कोरोना ने एक बार फिर बेहद गम्भीर स्थिति पैदा कर दी है. जिससे जनता कर्फ्यू की तलवार लटकने लगी है। लखनऊ और कानपुर के बाद प्रयागराज और काशी में पूरे प्रदेश के 50 प्रतिशत से ज्यादा केस मिलने से सरकार और प्रशासन में की परेशानी पर बल प्रतीत हो रहा है। इन हालातों के बाद भी एक तबका अभी भी कोविड19 की गाइडलाइन और मास्क पहनने में लापरवाही बरत रहा है, जिससे उसके खुद के साथ कोरोना मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है।


कोरोना की बढ़ती रफ्तार के बीच सरकार ने प्रदेश के चार बड़े शहरों में कुछ पाबंदियों को कड़ाई से लागू करने का मन बनाया है, जिसके तहत प्रयागराज में पब्लिक और निजी कार्यालयों में कर्मचारियों की संख्या को 50% तक निर्धारित की जाएगी। हालांकि इन सब पाबंदियों से लोगों में अफरातफरी का माहौल दिख रहा है और प्रदेश में दिनभर ये अफवाह फैलती रही कि सरकार किसी भी समय लॉक डाउन की घोषणा कर सकती है। वैसे खुद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सार्वजनिक रूप से पूर्ण जनता कर्फ्यू की संभावना से इनकार किया है।

इस बीच कोरोना के मामलों में बढ़ती रफ्तार को देखते हुए प्रदेश के कई अस्पताल अन्य बीमारियों का इलाज कराने आने वाले मरीजो को भी भर्ती करने से कतरा रहे हैं। इसी तरह लखनऊ के एक जाने माने अस्पताल में इलाज के लिए पहुंचे मरीज़ को जब अस्पताल प्रशासन ने भर्ती करने से मना कर दिया तो साथ मे आये तीमारदारों ने अस्पताल में जम कर बवाल किया और अस्पताल के शीशे और दरवाज़ों को नुकसान पहुँचाया। बाद में पुलिस की मदद से लोगों को काबू में किया जा सका। इस तरह के हालात लगभग सभी अस्पतालों में आने वाले समय मे देखने को मिल सकते है, इसे देखते हुए सरकार ने जिलों के अधिकारियों को गाइडलाइंस भी जारी की है।

कोरोना के संबंध में कानपुर में कैबिनेट के दूसरे मंत्रियों और अधिकारियों के साथ बैठक करने के बाद प्रदेश के चिकित्सा स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह ने कहा कि सरकार की सभी दिक्कतों पर नज़र बनी हुई है। टेस्टिंग की रफ्तार को तेज करने के निर्देश दिए गए है। एक ही मोबाइल नम्बर पर हजारों लोगों की जांच के खुलासे के सवाल पर मंत्री कुछ नहीं बोले। कोरोना के नए स्टेन की दस्तक के मामलों में जिस रफ्तार से इजाफा हो रहा है उससे पूरी स्वास्थ्य व्यवस्था पर दबाव देखा जा सकता है। यही नहीं कोरोना के जिन मरीजों की संख्या होली के पहले प्रदेश में सैकड़े में थी वो अब हजारों में पहुँच गई है ख़बर लिखे जाने तक प्रदेश में 8490 कोरोना मरीजों की पुष्टि हुई है जिसमे लगभग 50 प्रतिशत मामले प्रदेश के चार बड़े शहरों लखनऊ, कानपुर , प्रयागराज, काशी से ही देखे गए है।