28.1 C
Delhi
Homeउत्तर प्रदेशलखनऊउत्तर प्रदेश: चिकित्सा सुविधाओं का ढांचा मजबूत करने की दिशा में बड़ा...

उत्तर प्रदेश: चिकित्सा सुविधाओं का ढांचा मजबूत करने की दिशा में बड़ा कदम, हर जिले में होगा मेडिकल कालेज

- Advertisement -

स्टेटे डेस्क/ लखनऊ: कोरोना काल के संकट के अनुभव को ध्यान में रखते हुए योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली उत्तरप्रदेश सरकार ने राज्य में स्वास्थ्य सेवाओं के ढांचे को मजबूत करने की दिशा में बड़े कदम उठाए हैं । इसके अधीन ‘एक जिला, एक मेडिकल कॉलेज’ योजना पर काम चल रहा है । राज्य के 75 में से 59 जिलों में मेडिकल कॉलेज बन चुके हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शीघ्र ही नो जिलों के मेडिकल कालेजों का लोकार्पण करेंगे ।  16 जिलों में नए मेडिकल कॉलेज पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप (पीपीपी) मॉडल पर बनेंगे । इसकी योजना बनाने का निर्देश मुख्यमंत्री ने दिया है ।

लोकभवन में आयोजित समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि आने वाले दिनों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मीरजापुर, गाजीपुर, देवरिया, एटा, फतेहपुर, हरदोई, प्रतापगढ़, सिद्धार्थनगर और जौनपुर में बनाए गए मेडिकल कॉलेजों का लोकार्पण करेंगे। इसे देखते हुए सभी तैयारियां पूरी कर ली जाएं। उन्होंने कहा कि सरकार प्रत्येक जिले में एक मेडिकल कॉलेज स्थापित करने के लिए कृतसंकल्पित है। 59 जिलों में कम से कम एक कॉलेज बनाया जा चुका है। अब जो 16 जिले बचे हैं, वहां पीपीपी मॉडल पर मेडिकल कॉलेज बनाने के लिए नीति और कार्य योजना तैयार की जाए।

मिर्जापुर में मेडिकल कॉलेज का नामकरण मां विंध्यवासिनी के नाम पर होगा। गाजीपुर के संस्थान को महर्षि विश्वामित्र के नाम से जाना जाएगा। देवरिया, एटा, फतेहपुर, हरदोई, प्रतापगढ़, सिद्धार्थनगर और जौनपुर के कॉलेजों का नामकरण भी इसी तरह किया जाएगा। इन संस्थानों में 450 से अधिक संकाय सदस्यों की नियुक्ति की प्रक्रिया चल रही है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने चयन प्रक्रिया में शुचिता और पारदर्शिता बरतने पर जोर दिया है। उन्होंने कहा है कि मेरिट के आधार पर अच्छे शिक्षकों का चयन किया जाए।

महापुरुषों के स्मारकों का रखरखाव हर शहर-कस्बे में महापुरुषों के स्मारक, स्मृति स्थल आदि हैं। अक्सर इनकी बदहाली की तस्वीरें भी सामने आती हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनथा ने कहा है कि विभिन्न जिलों में महापुरुषों के स्मारकों व स्मृति स्थलों का व्यवस्थित रख-रखाव किया जाए। इन स्थलों की बेहतर साफ-सफाई और प्रबंधन के लिए प्रदेशव्यापी अभियान चलाया जाए।

यह भी पढ़े :

- Advertisement -



- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -