29.1 C
Delhi
Homeउत्तर प्रदेशअब आसान नहीं होगा रेमडेसिविर इंजेक्शन की हेराफेरी करना, हैलट ने लागू...

अब आसान नहीं होगा रेमडेसिविर इंजेक्शन की हेराफेरी करना, हैलट ने लागू की त्रिस्तरीय व्यवस्था

- Advertisement -

स्टेट डेस्क / अनू अस्थाना: कोरोना संक्रमितों की मौत के बाद उनके नाम से रेमडेसिविर इंजेक्शन जारी कराने के मामले में दोबार ऐसी कालाबजारी न हो सके इसके लिए जीएसवीएम मेडिकल कालेज के प्राचार्य डॉ. संजय काला की ओर से सख्त कदम उठाए गए। इसके तहत अब दवा और इलाज के लिए त्रिस्तरीय व्यवस्था लागू कर दी गई है।

इस व्यवस्था के अनुसार जिस रोगी के लिए रेमडेसिविर मांगी जाएगी, उसके साथ इलाज करने वाले डॉक्टर और जूनियर डॉक्टर का भी नाम बुक में दर्ज किया जाएगा। इससे किसी प्रकार की गड़बड़ी पर रोक लगेगी, इसके बावजूद कोई हेराफेरी की जाती है, तो सारे जिम्मेदार तुरंत सामने आ जाएंगे।

मेडिकल कालेज के प्राचार्य ने बताया कि हर रोगी के साथ उसका इलाज करने वाले कंसल्टेंट और जूनियर डॉक्टर का नाम भी रहेगा। इससे स्पष्ट हो जाएगा कि किस डॉक्टर ने रेमडेसिविर लिखा है। इसके साथ ही फार्मासिस्ट सारा डाटा अपडेट रखेगा। रेमडेसिविर या कोई भी दवा देने के बाद पूरा ब्योरा दर्ज करेगा। इसके साथ ही यह भी ब्यौरा अलग से रखा जाएगा कि दवा इंजेक्शन के रूप में थी या टैबलेट। इसी में कोविड और नॉन कोविड का भी ब्योरा रहेगा और सिस्टर इंचार्ज, वार्ड ब्वाय की डिटेल होगी। उन्होंने बताया कि सब कुछ कंप्यूटर पर अपडेट रहेगा। एक क्लिक में सब पता चल जाएगा।

- Advertisement -



- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -