अशासकीय सहायताप्राप्त जूनियर हाई स्कूलों में प्रधानाध्यापकों और शिक्षकों के रिक्त पदों की भर्ती पर लगा ग्रहण

स्टेटडेस्क : उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव के चलते अशासकीय सहायताप्राप्त जूनियर हाई स्कूलों में प्रधानाध्यापकों और शिक्षकों के रिक्त पदों पर भर्ती पर ग्रहण लग गया है। भर्ती के लिए 18 अप्रैल को होने वाली लिखित परीक्षा को स्थगित कर दी गई है। यह परीक्षा अब मई में होने की सम्भावना है। बेसिक शिक्षा विभाग की अधिसूचना में इस आशय की जानकारी दी गई है। सम्भावना है कि हाईस्कूल और इंटर परीक्षाओं से पहले या बाद में इसकी परीक्षा होगी। ज्ञात हो कि जूनियर हाईस्कूल भर्ती की लिखित परीक्षा 18 अप्रैल को प्रस्तावित थी। उत्तर प्रदेश के 3049 अशासकीय सहायताप्राप्त जूनियर हाईस्कूल की शिक्षक भर्ती में दो पदों प्रधानाध्यापक व सहायक अध्यापक की लिखित परीक्षा होनी है।


भर्ती के लिए 3.62 लाख ने पंजीकरण कराया व तीन लाख 34 हजार 942 अभ्यर्थियों ने अंतिम रूप से आवेदन किया है। उल्लेखनीय है कि भर्ती में प्रधानाध्यापक के 390 व सहायक अध्यापक के 1504 सहित 1894 पद हैं। इसकी लिखित परीक्षा मंडल मुख्यालयों पर 18 अप्रैल को प्रस्तावित थी। इसी बीच पंचायत चुनाव का कार्यक्रम जारी हुआ। इसमें 19 अप्रैल को भी कई जिलों में वोट डाले जाएंगे। यही वजह है कि परीक्षा स्थगित हुई है। क्योंकि कई ऐसे अभ्यर्थियों की चुनाव में ड्यूटी लगी है। जो प्रधानाध्यापक पद की परीक्षा के दावेदार हैं। उनके सामने संकट था कि वे चुनाव कराएं या फिर इम्तिहान दें। साथ ही जिन जिलों में 19 अप्रैल को मतदान है।

वहां के जिला प्रशासन ने भी परीक्षा टालने का अनुरोध किया था। परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव उप्र अनिल भूषण चतुर्वेदी के प्रस्ताव पर शासन ने परीक्षा टाल दी है। संकेत है कि परीक्षा अब मई माह में होगी। पंचायत चुनाव की वजह से यूपी बोर्ड की हाईस्कूल व इंटर परीक्षा का कार्यक्रम बदल गया है। लेकिन अब तक संशोधित कार्यक्रम जारी नहीं हुआ है इसीलिए एडेड कालेजों की शिक्षक भर्ती की लिखित परीक्षा की तारीख तय नहीं हुई है। तैयारी है कि बोर्ड परीक्षा से पहले या फिर ठीक बाद भर्ती का इम्तिहान कराया जाए। सचिव का कहना है कि बोर्ड परीक्षा कार्यक्रम तय होते ही भर्ती की तारीख घोषित होगी।