13.1 C
Delhi
Homeउत्तर प्रदेशदुःखद : 'आज' हिंदी दैनिक कानपुर के सम्पादक और पुरानी पीढ़ी के...

दुःखद : ‘आज’ हिंदी दैनिक कानपुर के सम्पादक और पुरानी पीढ़ी के दिग्गज पत्रकार विद्याव्रत जी का निधन

- Advertisement -

काफी समय से थे बीमार , 91 वर्ष की अवस्था मे गोंडा में अपने आवास पर ली अंतिम सांस

स्टेटडेस्क, लखनऊ। सत्तर की दशक की पत्रकारिता के पुरोधा तथा “आज ” हिंदी दैनिक , कानपुर के संपादक विजय सिंह विद्याव्रत का गुरुवार की रात उनके गोंडा पटेल नगर स्थित निवास पर निधन हो गया । वह 91 वर्ष के थे। वह पत्नी के निधन के बाद से गोंडा में पैतृक घर मे निवास कर रहे थे। उन्हें विद्याभास्कर जी, चन्द्रकुमार जी और पारसनाथ सिंह जी जैसे पत्रकारिता के पुरोधा संपादकों के साथ काम करने का गौरव प्राप्त था ।

युग तुलसी पंडित रामकिंकर उपाध्याय के प्रवचन की रिपोर्टिंग उन्हीं की शुरू की गई परंपरा थी। आपातकाल के दौरान तमाम पाबंदियों के बाद भी अपने तेवर कायम रखे । उनकी खासियत यह थी वह जब कोई भी कोई वैचारिक लेख अथवा खबर लिखना शुरू करते तो समापन होने पर ही कलम रुकती थी। उन्होंने दर्जनों पत्रकारों को अपने सानिध्य में तैयार किया।

व्यापक शोक
विद्याव्रत जी के निधन पर तमाम उनके प्रशंसकों ने शोक व्यक्त किया है । वरिष्ठ पत्रकार राम धनी द्विवेदी, शैलेंद्र दीक्षित , विष्णु प्रकाश त्रिपाठी , विष्णु सहाय पांडेय आदि ने शोक व्यक्त किया है। वरिष्ठ पत्रकार राजू मिश्रा ने अपना ताजा संस्मरण बताते हुए कहा है कि वह थोड़े दिन ही पहले ही विद्याव्रत जी से मिलने उनके गोंडा में पटेल नगर स्थित उनके घर पहुंचे तो वाकई वह बहुत बुझे से लगे,शायद कुछ समय पहले पत्नी का देहावसान भी इसकी वजह रही होगी।

विद्याव्रत जी से यह अंतिम मुलाकात थी। चलते वक्त उन्होंने कुछ किताबें दीं। साथ गए नवभारत टाइम्स के बाराबंकी रिपोर्टर चंद्रकांत मौर्य से भी खूब बोले – बतियाये। अब लग रहा है कि उन्हें मृत्यु का पूर्व आभास हो गया था, तभी वह जल्द मिलने के लिए बुला रहे थे। परमात्मा उन्हें अपने श्रीचरणों में सबसे करीब स्थान प्रदान करें।

- Advertisement -






- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -