30.1 C
Delhi
Homeउत्तर प्रदेशउन्नावबांगरमऊ/उन्नाव : धड़ल्ले से चल रही है जुएं की फड़, पुलिस प्रशासन...

बांगरमऊ/उन्नाव : धड़ल्ले से चल रही है जुएं की फड़, पुलिस प्रशासन मौन

- Advertisement -

बांगरमऊ/उन्नाव/शिवम शुक्ला : कोतवाली पुलिस की खाऊ कमाऊ नीत के चलते नगर एवं क्षेत्र में कई जगह खुले आम जुए की फड़ धड़ल्ले से चल रहे हैं। फड़ पर जुआ में हजारों रुपए हारने के बाद जुआरी पुनः धन एकत्रित करने के लिए चोरी करने तक से नहीं चूकते हैं। यही नहीं हार जीत को लेकर होने वाली मारपीट में जान तक चली जाती है। काजीपुर गांव के पास एक बाग में कई महीनों से सबसे बड़ा जुआ का अड्डा चल रहा है।

इसके बावजूद कोतवाली पुलिस के कानों पर जूं तक नही रेंगती है। ग्रामीणों ने पुलिस अधीक्षक सहित उच्चाधिकारियों से जुआ के अड्डे को बन्द कराने की मांग की है। बांगरमऊ पुलिस की नजर में शायद जुआ खेलना जैसे अपराध की श्रेणी में ही नही आता है। हालांकि शराब के नशे में धुत होने और जुआ हारने के बाद लड़ाई झगड़े की आशंका प्रबल हो जाती है।

जुआ हारने के बाद अक्सर जुआरी चोरी जैसा अपराध करने पर और आत्महत्या तक करने के लिए मजबूर हो जाता हैं। वर्तमान में नगर एवं क्षेत्र में चोरी की घटनाओं की बाढ़ सी आ गई है। वर्तमान में नगर के मोहल्ला सराय, नसीमगंज, नई पानी टंकी के निकट, सुरसेनी बाईपास के निकट,

प्रेमगंज व संडीला रोड आदि मोहल्लों में रोज सुबह से शाम तक धड़ल्ले से जुए की फड़ सजती है। जहां हजारों रुपए के वारे न्यारे होते है। कई बार तो जुआ हार जीत को लेकर आपस में सिर फुटव्वल तक हो जाती है। क्षेत्र के संडीला मार्ग पर स्थित ग्राम काजीपुर में तो अंतर्जनपदीय जुआरियों का अड्डा है।

ग्रामीण बताते है कि यहाँ प्रतिदिन गैर जनपद से सैकड़ों लोग दर्जनों चैपहिया वाहनो से आते हैं। यहाँ लाखों रुपए की हार जीत होती है। लगभग चार माह पूर्व फरवरी माह के प्रथम सप्ताह में काजीपुर गांव में जुआ के फड़ पर ही हार जीत को लेकर हुई मारपीट में गैर जनपद के निवासी एक जुआरी की जान भी जा चुकी है। हालांकि इस मामले में मृतक के परिजनों ने कोई आवाज नहीं उठाई थी और ना ही पुलिस ने इस मामले को गंभीरता से लिया था।

यही नहीं लगभग 4 साल पूर्व ग्राम अतरधनी में जुआ के फड़ से वसूली करने के चक्कर में कोतवाली के दो सिपाहियों ने जुआरियों को दौड़ाया था। जिसमें दौड़ते वक्त हार्टअटैक से एक जुआरी जो थाना फतेहपुर चैरासी क्षेत्र का निवासी था उसकी मौत भी हो गई थी।

इस घटना में दोनों सिपाहियों को निलंबित कर उनके खिलाफ केस भी दर्ज किया गया था। नगर व क्षेत्र में चल रहे जुओं के अड्डे के विषय में चर्चा है कि यहां पुलिस वाले अक्सर नजर आते हैं जो मोटी रकम लेकर चले जाते हैं। काजीपुर गांव के पास बाग में चल रहे जुए के फड़ पर बड़ी संख्या में जुआरी गैर जनपद से आते हैं।

फरवरी माह में इसी फड़ पर हुई मारपीट में एक व्यक्ति की मौत की घटना के बाद पुलिस द्वारा जुआरियों के विरुद्ध अब तक कोई कार्यवाही न किये जाने पर ग्रामीणों ने पुलिस अधीक्षक सहित उच्चाधिकारियों से मांग की है कि जुआ के अड्डे को तत्काल बन्द कराया जाये।

- Advertisement -



- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -